विदेशी मुद्रा विश्लेषण

वायदा कारोबार बनाम विकल्प

वायदा कारोबार बनाम विकल्प
निवेशकों ने फर्मों को लेकर विकल्प चुने
कंपनियों ने शेयर बाजार से पहले की तुलना में अधिक पूंजी जुटाई। निवेशकों ने उन फर्मों के बारे में अधिक विकल्प चुना, जिन्होंने उन्हें पूंजी दी। वर्ष की अंतिम तिमाही में कई मुद्दों को देखा गया जो आवश्यक सदस्यता संख्या तक पहुंचने में विफल रहे। कई अन्य फर्मों ने भी उस अनुमति का उपयोग करने की जहमत नहीं उठाई, जो उन्हें पैसे जुटाने के लिए मिली थी। इस बीच सरकार अटकलों पर अंकुश लगाती नजर आई और स्टॉक एक्सचेंजों के कामकाज को विनियमित किया। दिसम्बर 1961 में शुरू की गई समान माॢजन प्रणाली अपर्याप्त पाई गई और सट्टेबाजी के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए अन्य उपायों द्वारा प्रमुख स्टॉक एक्सचेंजों पर व्यापार के अस्थायी बंद होने से संकट ऊंचाई पर पहुंच गया। सरकार ने 29 नवम्बर, 1962 को प्रभावी रूप से स्टॉक एक्सचेंजों पर फॉरवर्ड ट्रेङ्क्षडग को स्थगित करने का आदेश दिया। दबाव कम होने के बाद प्रतिबंध धीरे-धीरे हटा लिया गया। फॉरवर्ड ट्रेडिंग जून 1963 में फिर से शुरू वायदा कारोबार बनाम विकल्प हुई। ऋण अधिक आसानी से उपलब्ध करवाया जा सकता है, क्योंकि इक्विटी पूंजी को टैप करना अधिक कठिन है। आर.बी.आई. की रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि 1962-63 में स्वीकृत ऋणों के प्रतिशत के रूप में संवितरण 67 प्रतिशत हो गया। पिछले वर्ष यह 47 प्रतिशत था। नए मुद्दों को लिखने वालों में भारतीय औद्योगिक वित्त निगम (आई.एफ.सी.आई.) और इंडस्ट्रीयल क्रैडिट एंड इनवैस्टमैंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया बाद में आई.सी.आई.सी.आई. बैंक वायदा कारोबार बनाम विकल्प बन गया। भुगतान के संतुलन पर सरकार को भी समस्याओं का सामना करना पड़ा। इसने विदेशी मुद्रा भंडार के संरक्षण के लिए कदम उठाए और सोने के उत्पादन, आपूर्ति और वितरण को विनियमित करना शुरू किया। इसने नवम्बर 1962 में पीली धातु में वायदा कारोबार पर प्रतिबंध लगा दिया और साथ ही सोने के बॉन्ड भी पेश किए।

भारत-चीन जंग हुई तो क्या कीमत चुकानी पड़ सकती है?

नई दिल्ली: पांच दशक के बाद एक बार फिर चीन नीच हरकतों पर उतर आया है। गलवान घाटी में हुए संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए, जबकि चीन के 43 सैनिक मारे गए। गलवान घाटी में घटे घटनाक्रम के साथ ही इस बात पर चर्चा छिड़ गई है कि भारत-चीन के बीच जंग की स्थिति में भारत की अर्थव्यवस्था पर क्या असर पड़ेगा? कालाबाजारी बढ़ेगी, स्टॉक मार्कीट पर क्या असर पड़ेगा, सोने का भाव आसमान छुएगा या गिरेगा इत्यादि पर चर्चाएं होने लगी हैं। भारतीय रिजर्व बैंक की वाॢषक रिपोर्टों में 1962 की जंग के प्रभाव पर बहुत ही चौंकाने वाले आंकड़े हैं।

रिपोर्टों के मुताबिक 1962 की जंग के दौरान शेयर बाजार में 16 प्रतिशत की गिरावट आई थी और वित्तीय संस्थानों ने पूंजी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अधिक उधार दिया तथा सरकार ने विदेशी मुद्रा भंडार के संरक्षण के लिए नियंत्रण शुरू किया। इसके बाद तीन सप्ताह में सोने की कीमतों में 30 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। भुगतान की समस्या का एक संभावित संतुलन भी टल गया। जून 1963 को समाप्त वर्ष के लिए आर.बी.आई. की वाॢषक रिपोर्ट के मुताबिक शेयर बाजारों में 1958 में वायदा कारोबार बनाम विकल्प तेजी देखी गई थी, लेकिन 1962 में शेयर बाजार बुरी तरह लडख़ड़ा गया। एस. एंड पी. बी.एस.ई. सैंसेक्स के 17 साल पहले के सूचकांक ने जुलाई और दिसम्बर 1962 के बाद 8.2 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की तथा जून 1963 को समाप्त वर्ष में शेयर बाजार 16 प्रतिशत गिर गया। रिपोर्ट के मुताबिक इस गिरावट के लिए मुख्य रूप से चीनी आक्रमण से उत्पन्न स्थिति जिम्मेदार थी। बजट से संबंधित आशंकाएं और स्टील की कीमतों में वृद्धि पर टैरिफ कमीशन द्वारा कीमत नियंत्रण के लिए सिफारिश की गई।

रेटिंग: 4.89
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 269
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *