विदेशी मुद्रा विश्लेषण

शेयर बाजार की विशेषता

शेयर बाजार की विशेषता

Common Habits: मेंटली स्ट्रॉन्ग लोगों की होती है अलग पहचान, इन विशेषताओं के कारण भीड़ में दिखते हैं बिलकुल अलग

Special Features: आज हम आपको मेंटली स्ट्रॉन्ग लोगों की ऐसी ही कुछ विशेषताओं(Features) के बारे में बता रहे हैं. जिनकी वजह से वह आपको ओरो से बिलकुल ही हटकर नजर आएंगे.

By: ABP Live | Updated at : 20 Aug 2022 07:08 PM (IST)

Special Features: आपको अगर मेंटली स्ट्रॉन्ग लोगों(Mentally Strong People) की पहचान करनी है तो सबसे पहली बात इसके पीछे आपको कोई रिसर्च करने की जरूरत ही नहीं है. दरअसल ऐसे लोग भीड़ में आपको बिलकुल अलग ही नजर आएंगे. जी बिलकुल ऐसे लोग बदलाव को बिना हिचक के स्वीकार कर लेते हैं. इनमें यह एक तरह से एक ये शेयर बाजार की विशेषता विशेषता होती है कि वह अच्छी चीजों को तुरंत ही अपना लेते हैं और समय के अनुसार खुद को ढाल कर आगे बढ़ते हैं.

आज हम आपको मेंटली स्ट्रॉन्ग लोगों की ऐसी ही कुछ विशेषताओं(Features) के बारे में बता रहे हैं. जिनकी वजह से वह आपको ओरो से बिलकुल ही हटकर नजर आएंगे.

सीचुएशन को हैंडल करना
मेंटली स्ट्रॉन्ग लोग किसी भी सीचुएशन में खुद को वैसे ही ढाल लेते हैं. वह किसी की शिकायत नहीं करते चलते. बल्कि वह परिस्थितियों को देखते हुए आगे बढ़ते हैं.

रिस्क लेते हैं
मेंटली स्ट्रॉन्ग लोग आगे बढ़ने के लिए रिस्क उठाते हैं. ना कि वह खुद को रोकते हैं. बदलाव को स्वीकार करते हुए ऐसे लोग घबराते नहीं बल्कि आगे बढ़ते चले जाते हैं.

News Reels

कंट्रोल में नहीं होने शेयर बाजार की विशेषता से घबराते नहीं
कई लोग अपने अनुसार चीजों को ढालकर जीने की कोशिश करते हैं और ऐसा नहीं होता तो वह घबरा जाते हैं. ऐसा मेंटली स्ट्रॉन्ग लोगों के साथ नहीं है. वह ऐसी परिस्थिति में खुद पर काबू रख कर आगे बढ़ते हैं ना कि परिस्थिति उनके अंदर नहीं है तो उससे घबरा जाते हैं.

लाइफ पर केवल होता है फोकस
मेंटली स्ट्रॉन्ग लोगों में एक और सबसे विशेष विशेषता होती है कि वह सिर्फ और सिर्फ अपनी लाइफ पर फोकस रखते हैं ना कि लोगों की किसी बात की परवाह करते हैं. इन्हें किसी भी प्रकार की इमेज की कोई परवाह नहीं होती.

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Published at : 20 Aug 2022 07:08 PM (IST) Tags: Lifestyle personality Mentally शेयर बाजार की विशेषता Strong हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Lifestyle News in Hindi

पीवीआर लिमिटेड

पीवीआर लिमिटेड (PVR) विशेषता खुदरा क्षेत्र की कंपनी है। कंपनी का कुल मूल्यांकन (मार्केट वैल्यू) ₹11,309 करोड़ है। कंपनी के एक शेयर की कीमत बीएसई बाजार में आज ₹1,899.50 है और एनएसई बाजार में आज ₹1,898.05 है। कंपनी की स्थापना वर्ष 1995 में की गई थी।

कंपनी द्वारा प्रदान की गई रिपोर्ट के अनुसार अंतिम वर्ष की कुल आय 3,329.5 करोड़ रुपये रही तथा कुल बिक्री 3,284.36 करोड़ रुपये रही । कंपनी का शुद्ध लाभ 30.16 शेयर बाजार की विशेषता करोड़ रुपये रहा। पीवीआर लिमिटेड ने चालू वर्ष में -29.77 करोड़ रुपये टैक्स का भुगतान किया हे।

Tags: PVR Share Price, एनएसई PVR, पीवीआर लिमिटेड Share Price, एनएसई पीवीआर लिमिटेड

शेयर बाजार क्या है और बाजार कैसे काम करता है? | What is Stock Market in Hindi? | How the Stock Market Works in Hindi? |

स्टॉक मार्केट शब्द कई एक्सचेंजों को संदर्भित करता है जिसमें सार्वजनिक रूप से आयोजित कंपनियों के शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं। इस तरह की वित्तीय गतिविधियां औपचारिक एक्सचेंजों के माध्यम से और ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) मार्केटप्लेस के माध्यम से आयोजित की जाती हैं जो नियमों के परिभाषित सेट के तहत काम करती हैं।

"स्टॉक मार्केट" और "स्टॉक एक्सचेंज" दोनों का उपयोग अक्सर परस्पर उपयोग किया जाता है। शेयर बाजार में व्यापारी एक या अधिक स्टॉक एक्सचेंजों पर शेयर खरीदते या बेचते हैं जो समग्र शेयर बाजार का हिस्सा हैं।

शेयर बाजार कैसे काम करता है?

जब आप एक सार्वजनिक कंपनी का स्टॉक खरीदते हैं, तो आप उस कंपनी का एक छोटा सा टुकड़ा खरीद रहे हैं।

शेयर बाजार एक्सचेंजों के नेटवर्क के माध्यम से काम करता है - आपने न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज या नैस्डैक के बारे में सुना होगा। कंपनियां प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश, या आईपीओ नामक प्रक्रिया के माध्यम से एक एक्सचेंज पर अपने स्टॉक के शेयरों को सूचीबद्ध करती हैं। निवेशक उन शेयरों को खरीदते हैं, जो कंपनी को अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए धन जुटाने की अनुमति देता है। निवेशक तब इन शेयरों को आपस में खरीद-फरोख्त कर सकते हैं।

खरीदार एक "बोली" या उच्चतम राशि प्रदान करते हैं जो वे भुगतान करने के लिए तैयार हैं, जो आमतौर पर विक्रेताओं की राशि से कम होती है जो बदले में "पूछते हैं"। इस अंतर को बोली-पूछना प्रसार कहा जाता है। एक व्यापार होने के लिए, एक खरीदार को अपनी कीमत बढ़ाने की आवश्यकता होती है या विक्रेता को उसे कम करने की आवश्यकता होती है।

यह सब जटिल लग सकता है, लेकिन कंप्यूटर एल्गोरिदम आम तौर पर अधिकांश मूल्य-सेटिंग गणना करते हैं। स्टॉक खरीदते समय, आप अपने ब्रोकर की वेबसाइट पर बोली, पूछने और बोली-पूछने का प्रसार देखेंगे, लेकिन कई मामलों में, अंतर पेनीज़ होगा, और शुरुआती और दीर्घकालिक निवेशकों के लिए बहुत चिंता का विषय नहीं होगा।

भारत में शेयर बाजार कैसे काम करता है?

भारत देश में दो प्रकार के शेयर बाजार हैं:

1.प्राथमिक शेयर बाजार:

यह वह जगह है जहां कंपनियां या व्यवसाय खुद को पंजीकृत करते हैं और पहली बार सूचीबद्ध करते हैं। कंपनियां आम जनता को अपने स्टॉक की पेशकश करके धन जुटाने के लिए प्राथमिक शेयर बाजार में प्रवेश करती हैं। जब कोई कंपनी खुद को प्राथमिक शेयर बाजार में सूचीबद्ध करती है और पहली बार अपने शेयरों को बेचने की पेशकश करती है, तो इसे प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के रूप में जाना जाता है।

यहां, आपको यह समझना चाहिए कि शेयर शेयर बाजार की विशेषता कंपनी के एक छोटे से मूल्य का भौतिक प्रतिनिधित्व हैं, और शेयरों के स्वामित्व का मतलब है कि आप अपने द्वारा रखे गए शेयरों के अनुपात में कंपनी के एक भाग-मालिक हैं।

2.माध्यमिक शेयर बाजार:

कंपनी के प्राथमिक बाजार में सूचीबद्ध होने के बाद, किसी कंपनी के शेयरों का वास्तविक व्यापार द्वितीयक शेयर बाजार में होता है। किसी कंपनी के शेयरों को स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध करने के बाद, निवेशक व्यापार कर सकते हैं, यानी, ब्रोकर के माध्यम से शेयरों को बेच या खरीद सकते हैं। वर्तमान डिजिटल युग में, आप आसानी से एक डीमैट खाता और एक ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं, जिसके बाद आप ब्रोकिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से शेयर बाजारों में प्रभावी ढंग से व्यापार कर सकते हैं।

भारत के शेयर बाजारों में सेबी शेयर बाजार की विशेषता की भूमिका?

एक शेयर बाजार को चलाने के लिए, कई प्रतिभागी हैं जो इसके कामकाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, शेयर बाजार की विशेषता जिसमें निवेशक, ब्रोकरेज हाउस, कंपनियां और बैंक शामिल हैं।

चूंकि बहुत सारा सार्वजनिक धन शामिल है, इसलिए सरकार द्वारा संचालित एक नियामक एजेंसी की आवश्यकता है जो शेयर बाजारों के कामकाज की देखरेख कर सके, और यह सुनिश्चित कर सके कि कंपनियां किसी भी नाजायज प्रथा का सहारा न लें या सार्वजनिक धन का दुरुपयोग न करें। उस एजेंसी को भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड (सेबी) के नाम से जाना जाता है।

नियामक का शेयर बाजारों पर पूरा नियंत्रण है। किसी कंपनी को बाजार में अपनी हिस्सेदारी सूचीबद्ध करने के लिए, उसे अनिवार्य रूप से सेबी से अनुमोदन प्राप्त करना होगा। अनुमोदन प्राप्त करने की प्रक्रिया में कंपनी के लेखांकन के उचित चेक और शेष राशि का रखरखाव शामिल है।

स्टॉक एक्सचेंज क्या है?

स्टॉक एक्सचेंज एक संगठित बाजार की तरह है जो इन लेनदेन के एक सुविधाकर्ता के रूप में काम करता है और शेयरों और अन्य प्रतिभूतियों की खरीद और बिक्री को सक्षम बनाता है।

सटीक होने के लिए, यह एक ऐसा मंच है जो स्टॉक और डेरिवेटिव जैसे वित्तीय साधनों के व्यापार का संचालन करता है। भारत में इस मंच पर गतिविधियों को सेबी द्वारा विनियमित किया जाता है। शेयर बाजार में व्यापारिक गतिविधियों में दलाली, कंपनियों द्वारा शेयर जारी करना आदि शामिल हैं।

भारत में कितने स्टॉक एक्सचेंज हैं?

ज्यादातर लोगों का मानना है कि इसके विपरीत, सबसे अधिक सुना जाने वाला स्टॉक एक्सचेंज एनएसई और बीएसई भारत में एकमात्र स्टॉक एक्सचेंज नहीं हैं। हालांकि इसमें कोई संदेह नहीं है कि ये दोनों मुख्य रूप से भारत के दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज हैं, सेबी के अनुसार, वर्तमान में भारत में कुल सात मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज हैं।

1.बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज

2.नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

3. कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड

4. इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज लिमिटेड

5. मेट्रोपॉलिटन स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड

6. मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड

7. नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड

भारत में स्टॉक एक्सचेंज के कार्य?

यहां भारत में स्टॉक एक्सचेंज के कार्यों की एक सूची दी गई है-

2.प्रतिभूतियों का मूल्य निर्धारण

3.आर्थिक विकास में योगदान देता है

4.लेन-देन की सुरक्षा

5.अटकलों के लिए गुंजाइश प्रदान करना

6.इक्विटी पंथ का प्रसार

8.पूंजी का बेहतर आवंटन

9.बचत और निवेश की आदतों को बढ़ावा देता है

स्टॉक एक्सचेंज की विशेषताएं.

स्टॉक एक्सचेंज के कार्यों के बारे में जानना अवधारणा को समझने की दिशा में पहला कदम है। एक स्टॉक एक्सचेंज में किसी भी अन्य संस्थान की तरह इसकी विशेषताएं और विशेषताएं होती हैं। नीचे सूचीबद्ध एक नज़र में देखने के लिए स्टॉक एक्सचेंज की प्राथमिक विशेषताएं हैं।

1. यह एक ऐसा मंच है जहां सरकार और कॉर्पोरेट क्षेत्रों के शेयर और प्रतिभूतियां खरीदी जाती हैं, साथ ही बेची शेयर बाजार की विशेषता जाती हैं।

2. स्टॉक एक्सचेंज की एक और विशेषता यह है कि केवल सूचीबद्ध कंपनियां ही व्यापार में संलग्न हो सकती हैं।

3. स्टॉक एक्सचेंज की एक प्रमुख विशेषता यह है कि यह एक राष्ट्र के आर्थिक कामकाज का प्रतिनिधित्व बन जाता है।

Resonance Specialties Ltd (RESP)

रेजोनेंस विशेषता शेयर (RESP शेयर) (ISIN: INE486D01017) के बारे में। आप इस पृष्ठ के अनुभागों में से किसी एक में जा कर ऐतिहासिक डेटा, चार्ट्स, तकनीकी विश्लेषण तथा अन्य के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

रेजोनेंस विशेषता बीओ कंपनी प्रोफाइल

रेजोनेंस विशेषता बीओ कंपनी प्रोफाइल

  • प्रकार : इक्विटी
  • बाज़ार : भारत
  • आईसआईन : INE486D01017
  • एस/न : RESONANCE

Resonance Specialties Limited manufactures and sells specialty chemicals in India and internationally. It offers pyridine, a chemical used in manufacturing agrochemicals, pharmaceuticals and bulk drugs, dyes, rubber chemicals, etc.; cyanopyridines that are applied in manufacturing of niacinamide; and picolines, including alpha, beta, and gamma picolines used in manufacturing vinyl latex rubber, vitamin B3, and anti-tuberculosis drugs. The company also provides nutritional drug products, such as zinc and chromium picolinate, chromium polynicotinate, niacin, and niacinamide; and isoniazid for anti-tuberculosis, as well as manufactures alpha picolinic and dipicolinic acids. In addition, it offers lutidines for anti-ulcer drugs; and collidines for omeprazole and other pharmaceutical products. The company was formerly known as Armour Polymers Limited. Resonance Specialties Limited was incorporated in 1989 and is based in Mumbai, India.

आय विवरण

तकनीकी सारांश

ट्रेंडिंग शेयर

ट्रेंडिंग शेयर

RESP टिप्पणियाँ

जोखिम प्रकटीकरण: वित्तीय उपकरण एवं/या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेडिंग में आपके निवेश की राशि के कुछ, या सभी को खोने का जोखिम शामिल है, और सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। क्रिप्टो करेंसी की कीमत काफी अस्थिर होती है एवं वित्तीय, नियामक या राजनैतिक घटनाओं जैसे बाहरी कारकों से प्रभावित हो सकती है। मार्जिन पर ट्रेडिंग से वित्तीय जोखिम में वृद्धि होती है।
वित्तीय उपकरण या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेड करने का निर्णय लेने से पहले आपको वित्तीय बाज़ारों में ट्रेडिंग से जुड़े जोखिमों एवं खर्चों की पूरी जानकारी होनी चाहिए, आपको अपने निवेश लक्ष्यों, अनुभव के स्तर एवं जोखिम के परिमाण पर सावधानी से विचार करना चाहिए, एवं जहां आवश्यकता हो वहाँ पेशेवर सलाह लेनी चाहिए।
फ्यूज़न मीडिया आपको याद दिलाना चाहता है कि इस वेबसाइट में मौजूद डेटा पूर्ण रूप से रियल टाइम एवं सटीक नहीं है। वेबसाइट पर मौजूद डेटा और मूल्य पूर्ण रूप से किसी बाज़ार या एक्सचेंज द्वारा नहीं दिए गए हैं, बल्कि बाज़ार निर्माताओं द्वारा भी दिए गए हो सकते हैं, एवं अतः कीमतों का सटीक ना होना एवं किसी भी बाज़ार में असल कीमत से भिन्न होने का अर्थ है कि कीमतें परिचायक हैं एवं ट्रेडिंग उद्देश्यों के लिए उपयुक्त नहीं है। फ्यूज़न मीडिया एवं इस वेबसाइट में दिए शेयर बाजार की विशेषता गए डेटा का कोई भी प्रदाता आपकी ट्रेडिंग के फलस्वरूप हुए नुकसान या हानि, अथवा इस वेबसाइट में दी गयी जानकारी पर आपके विश्वास के लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं होगा।
फ्यूज़न मीडिया एवं/या डेटा प्रदाता की स्पष्ट पूर्व लिखित अनुमति के बिना इस वेबसाइट में मौजूद डेटा का प्रयोग, संचय, पुनरुत्पादन, प्रदर्शन, संशोधन, प्रेषण या वितरण करना निषिद्ध है। सभी बौद्धिक संपत्ति अधिकार प्रदाताओं एवं/या इस वेबसाइट में मौजूद डेटा प्रदान करने वाले एक्सचेंज द्वारा आरक्षित हैं।
फ्यूज़न मीडिया को विज्ञापनों या विज्ञापनदाताओं के साथ हुई आपकी बातचीत के आधार पर वेबसाइट पर आने वाले विज्ञापनों के लिए मुआवज़ा दिया जा सकता शेयर बाजार की विशेषता है। इस समझौते का अंग्रेजी संस्करण मुख्य संस्करण है, जो अंग्रेजी संस्करण और हिंदी संस्करण के बीच विसंगति होने पर प्रभावी होता है।

रेटिंग: 4.21
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 774
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *