बाज़ार की खबरें

शेयर कैसे खरीदें और बेचे

शेयर कैसे खरीदें और बेचे
Share Kaise Kharide

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है-delivery trading Kya Hai (Full Information) | डिलीवरी ट्रेडिंग कैसे करे ?

दोस्तों स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग करने के बहुत सारे तरीके है लेकिन आज हम आपको डिलीवरी ट्रेडिंग के बारे में बताएँगे की डिलीवरी ट्रेडिंग क्या होती है और डिलीवरी ट्रेडिंग कैसे करे,डिलीवरी ट्रेडिंग के नुकशान और फायदे क्या क्या है क्या हमें डिलीवरी ट्रेडिंग करना चाहिए या नहीं करना चाहिए ये सारे सवालो के जवाब इस पोस्ट में हमने आपको बताया है

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है (Full Information)-what delivery trading in Hindi

जब भी आप स्टॉक मार्केट में से शेयर को खरीदते हो और उसे अपने पास कुछ ज्यादा समय तक रखते है तो यही ट्रेडिंग आपकी डिलीवरी ट्रेडिंग कहलाती है डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेशक अपने शेयर को एक लम्बे अवधि तक होल्ड करके रखते है और जब प्राइस ज्यादा बड जाता है तब उस शेयर को बेचकर प्रॉफिट कमा लेते है तो यही होती है डिलीवरी ट्रेडिंग |

डिलीवरी ट्रेडिंग में आप चाहे तो अपने शेयर को एक दिन, हफ्ते ,महीने,साल ,पाच साल ,दस साल जब तक रखना चाहते हो तब तक रख सकते हो इसका कोई निर्धारित समय नहीं होता है ये intraday trading से बिलकुल अलग है intraday trading में same day ट्रेडिंग की जाती है शेयर को जिस दिन खरीदते है और उसी दिन बेच भी देते है लेकिन डिलीवरी ट्रेडिंग में लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट होता है |

निवेसको को शेयर खरीदने और बेचने के लिए एक डीमैट खाता होना आवश्यक है इसी खाते से आप शेयर बाज़ार में ट्रेडिंग कर सकते है |

डिलीवरी ट्रेडिंग कैसे करे-how to do delivery trading :

डिलीवरी ट्रेडिंग करना तभी सही रहता है जब आप long term investment करते है डिलीवरी ट्रेडिंग में आप स्टॉक खरीदते है और अपने डीमेट खाते में होल्ड करके रखते है इसलिए आपका डीमैट खाता होने अनिवार्य है |

आप किसी भी ब्रोकरेज जैसे Upstox, zerodha, 5 paisa, groww, Astha trad, angel broking में डीमैट अकाउंट ओपन करके डिलीवरी ट्रेडिंग सुरु कर सकते है लेकिन ध्यान रहे हर एक ब्रोकर के कुछ हिडन चार्ज रहते है उन्हें स्टडी करने के बाद ही किसी ब्रोकरेज में ट्रेडिंग करे

डिलीवरी ट्रेडिंग में जब हम शेयर खरीदते है तब हमें फुल कैश पेमेंट करना होता है जब आप शेयर खरीद लेते है उसके बाद आपके शेयर आपके डीमैट खाते में सेव रहते है

delivery/holding trading जो सुरुआती निवेशक होते है उनको डिलीवरी ट्रेडिंग के द्वारा स्टॉक मार्केट में इंटर होना चाहिए स्टॉक मार्केट में उनकी ट्रेडिंग या फिर इन्वेस्टिंग की सुरुआत करना चाहिए

दोस्तों किसी भी ब्रोकरेज में leverage/margin प्रोवाइड करते है अगर आपके अकाउंट में 10 हज़ार रूपए है तो आपको 1 लाख या 1 लाख से भी ज्यादा अमाउंट दे देते है स्टॉक खरीदने के लिए लेकिन डिलीवरी ट्रेडिंग में जो भी अमाउंट आपके पास है उसी अमाउंट में आपको शेयर खरीदना है

उधाहरण से समझते है : मानलो किसी स्टॉक रिलायंस इन्फ्रा की जो स्टॉक प्राइस है 100 रूपए है मतलब 1 शेयर की प्राइस 100 रूपए है डिलीवरी में रिलायंस इन्फ्रा की एक शेयर खरीदने के लिए आपको 100 रूपए ही देना पड़ेगा यहाँ पर कोई लिवरेज या मार्जिन नहीं मिल रहा है लेकिन कुछ ब्रोकर येसे भी है जो डिलीवरी के लिए भी आपको थोडा बहुत मार्जिन प्रोवाइड करते है

अगर आपको विडियो फार्मेट में डिलीवरी ट्रेडिंग में sell और buy कैसे करते शेयर कैसे खरीदें और बेचे है इसको समझने के लिए हमने आपके लिए एक विडियो प्रोवाइड किया है जो tech & finance YouTube channel से लिया गया है और इस विडियो में angel broking ब्रोकरेज का सहारा लेकर आपको बताएँगे –

डिलीवरी ट्रेडिंग के फायदे-benefit of delivery trading:

  • डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेशक लम्बे समय तक ट्रेडिंग कर सकते है और ये निवेशको के लिए फायदेमंद है
  • आप जिस भी कंपनी में निवेश करते है उनके द्वारा निकाला गया बोनस से भी आपको फायदा हो सकता है
  • यदि पूरी समझ और सही जानकरी के साथ डिलीवरी रीडिंग करे तो आप हमेशा फायदे में रहोगे
  • ट्रेडिंग में एक अच्छे शेयर में इन्वेस्ट करने पर आपको बैंक से लोन लेने में मदत भी मिलती है
  • डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेशको को ब्रोकरेज नहीं देना पड़ता
  • ट्रेडिंग करते समय सभी शेयर्स की डिलीवरी अपने डीमैट खाते में ले सकते है
  • डिलीवरी ट्रेडिंग में एक फायदा ये है की निवेशक अपने शेयर को तब तक होल्ड करके रख सकता है जब तक उस शेयर को बेचने का सही समय ना आ जाये
  • शेयर खरीदते और बेचते समय ब्रोकरेज फीस नहीं देना होता है डिलीवरी ट्रेडिंग ये एक बड़ा फायदा है

डिलीवरी ट्रेडिंग के नुकशान-loss of delivery trading :

  • दोस्तों किसी भी ट्रेडिंग में निवेशको के लिए ट्रेडिंग में कुछ फायदे होते है तो कुछ नुकशान भी उठाना होता है
  • डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेश करने के लिए एडवांस में पैसे देना होता है लेकिन आपके पर्याप्त मात्र में धन की उपलब्धता नही है तो आप डिलीवरी ट्रेडिंग नहीं कर सकते लेकिन शेयर कैसे खरीदें और बेचे आपके पास प्रयाप्त मात्र में धन उपलब्ध है तो आसानी से ट्रेडिंग कर सकते है
  • यह एक लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट है इसमे इन्वेस्टरो को धर्य रखना होता है
  • स्टॉक मार्केट क्रेश होने का डर रहता है इसलिए इसमें नुकशान होने का खतरा रहता है
  • दूसरी बात ये भी की लाभी समय तक इन्वेस्ट करने के बाद भी अच्छे रिटर्न आने की उम्मीद नहीं रहती है

डिलीवरी ट्रेडिंग शुल्क- delivery trading charges in Hindi :

  • डिलीवरी ट्रेडिंग में सबसे पहला शुल्क GST का लगता है ये GST का शुल्क 18% देना होता है वो भी ब्रोकरेज और ट्रांजेक्शन चार्ज दोनों पर देना होता है
  • 1899 में भारत स्टाम्प एक्ट ने गवर्नमेंट को डिलीवरी ट्रेडिंग पर स्टाम्प शुल्क लगाया गया है
  • इसमें STT (security transaction tax) लगता है जो की 0.25% खरीद और बिक्री पर लगता है इसके अलावा CTT और ट्रांजेक्शन चार्ज भी डिलीवरी ट्रेडिंग में सामिल है
  • बात करे exchange transition charge की इसमें NSE और BSE कुछ चार्ज लेते है यह चार्ज आपको 0.00325% खरीद और बिक्री पर देना होता है
  • ब्रोकरेज चार्ज आपको 0.2% देना ही पड़ता है कुछ ब्रोकरेज चार्ज जीरो होता है और फुल ब्रोकरेज सर्विस में 0.2% ब्रोकरेज देना ही पड़ता है
  • इसमें SEBI (security and exchange board of India) चार्ज भी लगता है वो चार्ज 0.0001% का जो शेयर खरीद और बिक्री पर लगता है
  • स्टाम्प ड्यूटी देना होता है जो हर राज्य की अलग अलग होती है इसके अलावा कुछ और चार्ज देने होते है जैसे अनुअल चार्ज और टैक्स चार्ज आपको पे करने होते है |

डिलीवरी ट्रेडिंग में सावधानी (caution of delivery trading) :

  • डिलीवरी ट्रेडिंग में आपको हमेशा लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट करना चाहिए
  • डिलीवरी ट्रेडिंग में आपके पास प्रयाप्त राशी होनी चाहिए तभी आप इन्वेस्टमेंट कर सकते है
  • ट्रेडिंग करते समय कुछ transaction चार्ज भी लगते है जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए
  • निवेशको को शेयर खरीदते समय कंपनी का फंडामेंटल एनालिसिस करना बहुत जरुर होता है
  • किसी भी ब्रोकरेज के जरिये इन्वेस्ट या ट्रेडिंग करते है तो उसके हिडन चार्ज जानना बहुत जरुरी होता है

निष्कर्ष :

दोस्तों यदि आप सुरुआती ट्रेडर है और आप डिलीवरी ट्रेडिंग के बारे में जानते है तो आपके लिए ये जरुरी होगा की आप लगातार डिलीवरी ट्रेडिंग में बने रहे क्योकि डिलीवरी ट्रेडिंग शेयर कैसे खरीदें और बेचे एक लॉन्ग टर्म प्रोसेस है

उम्मीद करते है हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी डिलीवरी ट्रेडिंग को लेकर आपको समझ आ गयी होगी क्योकि आप सुरुआती निवेशक है तो ये बाते जानना बहुत जरुरी होता है इसके अलावा हमारे द्वारा जानकारी में कोई कमी है तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है हम आपकी समस्या का निराकरण देने की कोशिश करेंगे |

लास्ट में ये कहना सही रहेगा की जब भी आप इन्वेस्ट करने का सोचते है उससे पहले उस ट्रेडिंग और शेयर्स की सम्पूर्ण जानकारी जुटा लेना चाहिए ताकि आप नुकशान से बच कसो हलाकि ट्रेडिंग एक येसा प्लेटफार्म है जहा आपको नुकशान भी झेंलना पड़ सकता है लेकिन उस नुकशान से कुछ न कुछ सिखने भी मिलता है |

Share Market में शेयर कैसे खरीदे 2022

Share Market me share kaise kharide

शेयर मार्केट की दुनिया में सफल होने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी ये है कि आप सही share या स्टॉक का चुनाव करें। हर एक investor या trador को एक ऐसे स्टॉक को चुनना चाहिए जो उसको कुछ ना कुछ प्रॉफिट करके दे। गलत स्टॉक में आप अपना पैसा फसा कर सिर्फ अपना loss ही करवाएंगे।

किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदने से पहले आपको कुछ जरूरी टिप्स पता होंने चाहिए, share market tips को अच्छी तरीके से समझ कर आप एक profitable stock खरीद सकते हैं। Company के background, market strategy, growth, expert reviews जैसी कई चीजो को अच्छी तरह से समझने के बाद ही आपको शेयर खरीदना चाहिए।

Share market में शेयर खरीदने या बेचने के लिए आपके पास दो तरह के अकाउंट होने चाहिए, सबसे पहले आपके पास एक डीमैट अकाउंट होना चाहिए जहां आप share market stocks को रख सकें।

इसके अलावा आपके पास एक ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए जहां से आप किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद या बेच सकते हैं। यह दोनों अकाउंट बनवाने के लिए आप किसी भी online broking agencies की हेल्प ले सकते हैं।

आज का शेयर मार्केट पूरी तरीके से ऑनलाइन हो गया है जहां किसी भी तरह के कागजी काम (paper work) की जरूरत नहीं होती है। ऐसे में आप एक अच्छे ऑनलाइन ब्रोकर को चुनके शेयर मार्केट मे ट्रेडिंग या इन्वेस्टिंग शुरू कर सकते है। आज इस पोस्ट में हम आपको बताऐंगे की शेयर कैसे खरीदे बेचे?

Table of Contents

Share Market में शेयर कैसे खरीदे ?

दोस्तों, एक बार जब आपका demat account और trading account दोनों बन जाए और आप अपनी सारी official details submit कर दे, तो आप शेयर मार्केट में investment या trading कर सकते हैं।

Share market में पैसा कमाना बहोत easy है, बस हमें अपने पैसों को सही जगह invest करना सीखना चाहिए। ताकि इन पैसों से सही share खरीद कर हम अच्छा profit कमा सके।

किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदने से पहले आपके पास उस कंपनी से जुड़ी सभी जानकारियां होनी चाहिए, जिस भी कंपनी का आप share खरीद रहे हैं उसकी market fluctuation जरूर चेक करें। इसके अलावा share खरीदने से पहले आप नीचे दी गई बातों का जरूर ध्यान रखे।

1. खुद को educate करें

दोस्तों, शेयर मार्केट में आने वाले ज्यादातर नए लोग शेयर मार्केट की basics भी नहीं जानते हैं, ऐसे में इन लोगों को किसी भी वक्त बड़ा घाटा हो सकता है।

Share market में इन्वेस्ट या ट्रेडिंग करने के लिए सिर्फ यूट्यूब की 2 से 4 वीडियो ही काफी नहीं है, आपके पास शेयर मार्केट के बारे में हर वह जानकारी होनी चाहिए जिससे आप किसी भी प्रकार के loss में ना जाए। आपको नीचे दिए गए सभी terms की अच्छी समझ होनी चाहिए;

  • Demat account
  • Trading account
  • IPO
  • Stock exchange
  • Market analysis
  • Intraday trading
  • Market graph

एक बार जब आप इन सभी चीजों के बारे में अच्छी तरीके से जानकारी इकट्ठा कर ले तब ही आप शेयर मार्केट में चांस ले सकते हैं। अगर आप बिना किसी जानकारी के शेयर खरीदेंगे तो घाटा होने का चांस बहुत ज्यादा रहेगा।

Also Read:

Share market में Account कैसे खोले 2022 । ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलें

2. Research करे

दोस्तों, किसी भी share को चुनने से पहले उस शेयर के बारे में पूरी रिसर्च करना बहोत जरुरी होता है। उसके लिए आपको शेयर का शेयर कैसे खरीदें और बेचे Fundamental और Technical analysis करते आना चाहिए।

इसमें use किये जाने वाले terms के बारे में पता होना चाहिए। आपको charts और graphs समझने होंगे। अगर आपको trading करनी है तो आपको candlestick pattern के बारे पता होना चाहिए।

3. एक साथ कई सारे share खरीदें

दोस्तों, शेयर मार्केट में लॉस कम से कम हो इसके लिए आपको एक साथ कई सारे स्टॉक्स को खरीदना चाहिए। Zerodha, Smallcase जैसी साइट्स आपको ऐसे शेयर दिला देंगे जो एक experts के under ट्रेड किया जाता है।

एक बार में एक ही कंपनी में ज्यादा पैसा लगाना अच्छी strategy नहीं मानी जाती है। जब आपका पैसा एक बार में अलग-अलग जगह पर लगा होता है तो आपको अगर कहीं से loss हो रहा है तो दूसरी जगह से उस loss को कवर किया जा सकता है।

Mutual funds भी ऐसे ही काम करता है, मुचल फंड में आप का पैसा एक बार में कई कंपनी के स्टॉक्स को खरीदने में लगाया जाता है, इन स्टॉक्स को experts monitor करते हैं। शुरुआत के समय में ज्यादा एक्सपीरियंस पाने के लिए आप अपने पैसों को mutual funds में भी लगा सकते हैं जहां से आपको शेयर मार्केट की अच्छी खासी समझ हो जाएगी।

4. अच्छी broking agency चुने

दोस्तों, Share market में इन्वेस्ट या ट्रेडिंग करने के लिए आपको कुछ extra charges देने पड़ते हैं। शुरुआत में ये extra रुपए आपको ज्यादा लग सकता है ऐसे में आप एक ऐसी broking एजेंसी चुने जो कम से कम पैसे में आपका काम कर दे।

शेयर मार्केट में आप के शेयर्स को स्टोर करने के लिए भी कुछ पैसा लिया जाता है, ऐसे में आप किसी ऐसे broker के संपर्क में ना आए जो आप से ज्यादा पैसे लेता हो। ये brokers आपसे एक्स्ट्रा पैसे लेते हैं जो आप जानकारी ना होने की वजह से शेयर कैसे खरीदें और बेचे दे भी देते हैं, ऐसे में अगर आप अपने पैसे को किसी भी broking agencies या person को देते हैं तो सबसे पहले prices को compare जरूर करें।

5. Market analysis और experts review पर जरुर ध्यान दे

किसी भी कंपनी के शेयर कैसे खरीदें और बेचे Stock को खरीदने से पहले आपको उस कंपनी के growth को मार्केट में अच्छी तरीके से analyse करना चाहिए। शेयर खरीदने से पहले आप यह जरूर consider करले कि कहीं आप किसी ऐसी कंपनी का शेयर तो नहीं खरीद रहे हैं जो लगातार loss करवा रही है।

आज के समय में ऑनलाइन ऐसे कई agencies और Credible predictor हैं जो आने वाले समय मे शेयर का ग्राफ पहले ही बता देते हैं। हालांकि यह हमेशा सही नहीं होता है लेकिन फिर भी आपको यह एक आईडिया जरूर दे देगा।

आज के समय में ऐसे ढेर सारे स्टॉक experts हैं जो कंपनी के बारे में अपनी अपनी review को ऑनलाइन बताते हैं। ऐसे में अगर आप इन experts की बातों को अच्छी तरीके से analyse करें तो आप कभी भी loss नहीं सहेंगे।

जब भी कोई कंपनी अपने नए आईपीओ को मार्केट में उतारती है तो यह experts अपने experience से इसके आने वाले समय के ग्राफ को पहले ही बता देते हैं।

दोस्तों, Share market में online शेयर खरीदना बहोत आसान है लेकिन कोनसा शेयर ख़रीदे ये बहोत ही मुश्किल है। क्योंकि अगर आपका अंदाज गलत होता है, तो आपको बहोत नुकसान उठाना पड़ सकता है। इसलिए ज्यादा तर लोग अच्छी और पुरानी कंपनियों में long term के लिए अपने पैसे invest करते है।

Also Read:

Trading se से पैसे कैसे कमाए (1 दिन मे पैसा double करे)

IPO क्या है ? IPO मे Invest कैसे करे ?

Conclusion:

दोस्तों, Share market को समझने के लिए आपको बहोत study करना पड़ता है क्योंकि ये हमेशा जोखिम और रिस्क से भरा होता है। जहां किसी भी समय आपको फायदा या नुकसान हो सकता है।

शेयर मार्केट में कभी भी आप जरूरत से ज्यादा पैसा ना लगाएं, हमेशा अपना एक cover जरूर रखें जिससे आप किसी भी प्रकार के नुकसान की भरपाई कर सकें। कंपनी के शेयर को खरीदने से पहले उसकी पूरी जानकारी ले और experts की बातों पर जरूर ध्यान दें।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये पोस्ट Share market me share kaise kharide? informative और helpful लगा होगा। अगर आपको हमारा पोस्ट अच्छा लगा हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले।

₹5.52 के इस शेयर का कमाल, निवेशकों को दे रहा बंपर रिटर्न, ₹1 लाख को बना दिया 2.68 करोड़, जानिए कैसे?

Multibagger stock: शेयर बाजार (Stock market) में निवेशकों को धैर्य के साथ पैसा लगाना चाहिए। बाजार में पैसा शेयर खरीदने और बेचने में नहीं, बल्कि निवेश के बाद इंतजार करने में है। 'खरीदें, पकड़ें और.

₹5.52 के इस शेयर का कमाल, निवेशकों को दे रहा बंपर रिटर्न, ₹1 लाख को बना दिया 2.68 करोड़, जानिए कैसे?

Multibagger stock: शेयर बाजार (Stock market) में निवेशकों को धैर्य के साथ पैसा लगाना चाहिए। बाजार में पैसा शेयर खरीदने और बेचने में नहीं, बल्कि निवेश के बाद इंतजार करने में है। 'खरीदें, पकड़ें और भूल जाएं' स्ट्रेटेजी से निवेशक समय के साथ अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं। एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) के शेयर इसका बेहतरीन उदाहरण हैं। यह बैंकिंग स्टॉक (Banking stock) मूल्य ₹5.52 (1 जनवरी 1999 को एनएसई पर बंद कीमत) से बढ़कर ₹1481 (31 दिसंबर 2021 को एनएसई पर बंद कीमत) हो गया है, जो इन 23 सालों में लगभग 268 गुना बढ़ गया है।

एचडीएफसी बैंक शेयर प्राइस हिस्ट्री
बैंकिंग प्रमुख पिछले छह महीनों से बिकवाली के दबाव में है। पिछले एक महीने में, एचडीएफसी बैंक के शेयर की कीमत (HDFC Bank share price) में लगभग 1.50 प्रतिशत की गिरावट आई है, जबकि पिछले एक साल में यह केवल 4 प्रतिशत की बढ़त दर्ज कर सका। लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि एचडीएफसी बैंक एक खराब कंपनी है और किसी को इस व्यवसाय में निवेश करने से शेयर कैसे खरीदें और बेचे शेयर कैसे खरीदें और बेचे बचना चाहिए। किसी भी अन्य बैंकिंग स्टॉक की तरह, एचडीएफसी बैंक पिछले एक साल से महामारी की चपेट में है।
एचडीएफसी बैंक के शेयर भारत में मल्टीबैगर शेयरों में से एक हैं। पिछले 5 वर्षों में, एचडीएफसी बैंक के शेयर की कीमत लगभग ₹596 से बढ़कर ₹1481 हो गई है, इस अवधि में लगभग 150 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। इसी तरह, पिछले 10 सालों में एचडीएफसी बैंक के शेयर की कीमत लगभग ₹215 से बढ़कर ₹1481 हो गई है, जो इस अवधि में 7 गुना दर्ज की गई है। इसी तरह, पिछले 20 सालों में, एचडीएफसी बैंक के शेयर की कीमत लगभग ₹22 के स्तर से बढ़कर ₹1481 हो गई है, जो पिछले दो दशकों में लगभग 67 गुना हो गई है। हालांकि, पिछले 23 वर्षों में, एचडीएफसी बैंक का शेयर ₹5.52 से बढ़कर ₹1481 हो गया है, जिससे इस अवधि के दौरान अपने शेयरधारकों को लगभग 26,725 प्रतिशत रिटर्न मिला है।

निवेशक हो गए मालामाल
अगर किसी निवेशक ने 5 साल पहले एचडीएफसी बैंक के शेयरों में निवेश किया होता, तो उसका ₹1 लाख आज ₹2.5 लाख हो जाता। अगर किसी निवेशक ने 10 साल पहले इस मल्टीबैगर काउंटर में ₹1 लाख का निवेश किया होता, तो उसका ₹1 लाख आज ₹7 लाख हो जाता, जबकि ₹1 लाख 20 साल में ₹67 लाख हो जाता। इसी तरह, अगर किसी निवेशक ने 23 साल पहले एचडीएफसी बैंक के शेयरों में ₹5.52 के स्तर पर एक स्टॉक खरीदने के लिए ₹1 लाख का निवेश किया था और निवेशक आज तक इस बैंकिंग स्टॉक में निवेशित रहा, तो उसका ₹1 लाख आज ₹2.68 करोड़ हो गया होता।

Share (Stock) Kaise Kharide

Share Kaise Kharide

Share Kaise Kharide

अब आपके मन में यही सवाल आया होगा अब ये डीमेट अकाउंट क्या होता है तो चलिए हम Demat account के बारे में विस्तार में जानते है।

Demat Account क्या होता है?

प्राचीन में शेयर बाजार में ट्रेड करने के लिए डीमैट अकाउंट की जरुरत नहीं पढ़ती थी, पहले टेक्नोलॉजी के अभाव में ब्रोकर ट्रेडर को शेयर पेपर/दस्तावेज़ के रूप में देते थे।

जिसके चलते शेयर मार्केट में शेयर के साथ स्कैम एवं धोखाधड़ी होना शुरू हो गया, साथ ही शेयर का डॉक्यूमेंट फाइल फ़टने या चोरी होने का खतरा भी बना रहता था।

इन सभी कारणों को देखते हुए शेयर को डिजिटल फार्म में रखने का निर्णय लिया गया, इस डिजिटल फॉर्मेट में शेयर को रखने की प्रक्रिया को Dematerialization संक्षेप में Demat कहते है।

डीमैट अकाउंट आने के बाद डिजिटल ट्रेडिंग की शुरुवात हुई और शेयर को रखना अधिक सुरक्षित हो गया।

तो डीमैट अकाउंट खोलने के लिए मुख्यत: इन चीजों की जरुरत होती है।

  • PAN Card,
  • Bank Account,
  • Aadhaar Card,
  • Mobile No. और
  • Email ID.

Indian Stock में निवेश करने के लिए Demat account open करने के लिए आप निम्न प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकते है, जिसमें सबसे पोपुलर ज़ेरोधा (Zerodha) है।

Zerodha में Demat Account Open करने पर 200 रूपये चार्ज लगते है, साथ ही AMC (Annual Maintenance Charge) 300 प्रत्येक साल के देने होंगे.

यदि आप Free Demat account open करना चाहते है तो Groww App का इस्तेमाल कर सकते है, जिसका लिंक निचे दिया गया है, वहां आपको किसी भी प्रकार की Charges नहीं देने होंगे.

Zerodha Se Share Kaise Kharide ?

यदि आपने अपना Demat Account Open कर चुके है और आप चाहते है की हम अपना पहला शेयर कैसे खरीदें तो निचे बताये हुए प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें.

Step 1. सबसे पहले Demat Account को Open करना है।

जैसे: हमने यहाँ Zerodha Demat Account की मदद से स्टॉक कैसे खरीदते है उसकी प्रक्रिया बताया हूँ।

Step 2. अब Watchlist में किसी कंपनी को सर्च करना है, जिसका आपको शेयर खरीदना हो।

यहाँ हम YESBANK कंपनी का शेयर खरीदना चाहते है।

Step 3. उसके बाद BUY बटन पर क्लिक करना है, वहां आपको NSE या BSE जिसमें खरीदना है वो Select करना है।

Step 4. अब Quantity में आपको जितना शेयर खरीदना है वो नंबर डाले।

जैसे आपको 5 Share Buy करना है तो 5 डालें।

Step 5. उसके बाद CNC (Longterm) सेलेक्ट करके TYPE में Market सेलेक्ट करना है।

Step 6. निचे SWIPE TO BY को स्वाइप कर देना है, जिसके बाद Order place हो जायेगा, जो Order Executed में Complete देखने को मिल जायेगा।

इसके अलावा Portfolio में Positions में आज Order Place किये गए Share देखने को मिलेगा, वो स्टॉक 1 दिन के बाद आपके डीमैट अकाउंट के Holding में दिखने लगेगा।

Zerodha Se Share Kaise Kharide ?

share kaise kharide full steps.

इस तरह से आप Demat Account की मदद से स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट कैसे करे? सिख चुके होंगे, अब आपको उसी शेयर को बेचना है तो निचे हमने वो भी प्रक्रिया बताया है तो वो भी पढ़ें।

Zerodha Se Share Kaise Beche ?

अगर आपने कोई शेयर ख़रीदा है और अब उसको आप बेचना चाहते है तो निचे बताये हुए प्रक्रिया को शेयर कैसे खरीदें और बेचे अवश्य अपनाएं।

Step 1. सबसे पहले Kite by Zerodha App को Open करें।

Step 2. उसके बाद Portfolio में आपके सभी Share दिख जायेंगे, जिसे भी सेल करना चाहते है उस पर क्लिक करें।

Step 3. वहां आपको ADD और EXIT बटन मिलेगा, जहाँ EXIT पर क्लिक करें।

Step 4. उसके बाद Quantity डालकर Product Select करके आगे Type select करके निचे SWIPE TO SELL को स्वाइप कर देना है।

इस तरह से आप ख़रीदे हुए शेयर को मुनाफ़ा होने के बाद उस शेयर को शेयर कैसे खरीदें और बेचे सेल (बेच) सकते है।

Conclusion

मुझे आशा है की आप इस आर्टिकल की मदद से Stock kaise kharide (शेयर कैसे खरीदें) और शेयर कैसे बेचे उसकी पूरी जानकारी मिल गई होगी, अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य साझा करें

साथ ही हमसे सोशल मीडिया पर जुड़ने के लिए फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो जरुर करें, और हमारे YouTube Channel को भी सब्सक्राइब जरुर कर लें।

शेयर बाजार से हुई कमाई पर कैसे और कितना लगता है टैक्स, समझिए पूरा नफा-नुकसान

अगर शेयर मार्केट में लिस्टेड शेयरों को खरीदने से 12 महीने के बाद बेचने पर लाभ होता है तो लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स कहते है.

शेयर बाजार में आप भी निवेश करते हैं. अगर हां तो आपको टैक्स का नियम समझना जरूरी है. हम आपको बता रहे हैं कि स्टॉक मार्केट से कमाई पर कितना और कैसे टैक्स देना पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated : July 09, 2022, 11:07 IST

नई दिल्ली . शेयर बाजार से होने वाली कमाई पर कई तरह के टैक्स लगते हैं. बहुत सारे लोगों को यह जानकारी कम होती है कि कितना टैक्स लगता है. जब कमाई के बाद पैसा कट कर आता है तो निवेशक सोचते हैं कि पैसा कहां कट गया. आज हम आपको बता रहे हैं कि स्टॉक मार्केट से कमाई पर कितना और कैसे टैक्स देना पड़ता है.

मान लीजिए आपको एक साल में शेयर बाजार से 5 लाख की कमाई हुई. लेकिन आपके अकाउंट में सिर्फ 4.50 लाख रुपए ही आएंगे. दरअसल, इस कमाई पर सिक्योरिटी ट्रांजैक्शन टैक्स यानी STT और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स यानी LTCG देना पड़ा. इसके साथ ही कुल कमाई पर इनकम टैक्स भी देना होगा. यानी आपको तीन टैक्स देने पड़ रहे हैं.

टैक्स को ऐसे समझें…

आपके 4 लाख की कमाई वाले शेयर बेचते समय ही STT के 125 रुपए कट गए. एक साल पूरा होने के एक हफ्ते बाद ये 5 लाख रुपए के शेयर बेचे तो उस पर LTCG टैक्स 10% लगा और 50 हजार रुपए कट गए. मान लीजिए अब आपने इसके अलावा 3 लाख रुपए दूसरे जरिए से कमाए. इस तरह उसकी टोटल इनकम 3 लाख+5 लाख = 8 लाख रुपए हो गई. इसमें से पहले 50 हजार रुपए कट गए थे. इनकम बची 8 लाख-50,000=7.50 लाख रुपए. अब इस 7.50 लाख पर आपको इनकम टैक्स भी देना है.

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स (Long term Capital gains tax)

अगर शेयर मार्केट में लिस्टेड शेयरों को खरीदने से 12 महीने के बाद बेचने पर लाभ होता है तो लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स कहते है. शेयरों की बिक्री करने वाले को इस कमाई पर टैक्स देना पड़ता है. 2018 के बजट में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स को फिर से शुरू किया गया था.

इससे पहले इक्विटी शेयरों या इक्विटी म्यूचुअल फंड ( Equity Mutual funds) की यूनिटों की बिक्री से होने वाले लाभ पर टैक्स नहीं लगता था. इनकम टैक्स रूल्स (Income tax Rules) के सेक्शन 10 (38) के तहत इस पर टैक्स से छूट मिली हुई थी. लेकिन 2018 के बजट में शामिल किए गए प्रावधान में कहा गया कि अगर एक साल के बाद बेचे गए शेयरों और इक्विटी म्यूचुअल फंड की यूनिटों की बिक्री पर एक लाख रुपये से ज्यादा का कैपिटेल गेन हुआ है तो इस पर 10 फीसदी टैक्स लगेगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रेटिंग: 4.90
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 279
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *