सर्वोत्तम उदाहरण और सुझाव

एक्सेस ब्रोकर

एक्सेस ब्रोकर

Sharekhan App क्या हैं?किस देश का ऐप हैं और इसका मालिक कौन हैं?

दोस्तों आपने Sharekhan App के बारे में तो जरूर सुना होगा. यह एक मोबाइल एप्लीकेशन हैं जिसकी मदद से स्टॉक, कमोडिटी,म्युचुअल फंड, इटीएफ, बॉन्ड्स और आईपीओ आदि में निवेश किया जा सकता हैं. लेकिन यदि आप इस ऐप बारे में अधिक विस्तार से जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को लास्ट तक जरूर पढ़ें. इस आर्टिकल में हमने बताया हैं कि आखिर Sharekhan App क्या हैं?किस देश का ऐप हैं और इसका मालिक कौन हैं? तो चलिए शुरू करते हैं.

यदि आप शेयर बाजार में निवेश के बारे में सोच रहे हैं तो इसके लिए गूगल प्ले स्टोर पर कई विकल्प ऐप्स के रूप में मौजूद हैं. जिनमे से प्रमुख नाम Sharekhan App का आता हैं. इसकी मदद से न केवल शेयर बाजार में निवेश किया जा सकता हैं बल्कि निवेश के तरीकों के बारे में भी फ्री ट्रेनिंग ली जा सकती हैं. यह ट्रेडर और इंवेस्टर दोनों को ध्यान में रखकर बनाया गया ऐप हैं. यह ऐप ट्रेडर और इंवेस्टर को समान रूप से व्यापक सुविधाएं उपलब्ध कराता हैं. ऐसे में Sharekhan App के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर लेना हमारे लिए आवश्यक हो जाता हैं.

sharekhan app kya hai, sharekhan kis desh ka app hai, sharekhan app ka malik kon hai
Sharekhan App क्या हैं?किस देश का ऐप हैं और इसका मालिक कौन हैं?

Sharekhan App क्या हैं?

Sharekhan App ऑनलाइन ट्रेडिंग के लिए सबसे लोकप्रिय प्लेटफॉर्म में से एक हैं. जिसमे स्मार्ट लाइव चार्ट जैसी सुविधा उपलब्ध कराई गई हैं इसकी मदद से तेजी से बदलते स्टॉक्स प्राइसेज को देखा जा सकता हैं. यह ऐप व्यापारियों और निवेशकों दोनों की जरूरत को ध्यान में रखकर बनाया गया हैं. यदि Sharekhan App की मदद से कोई निवेश करता हैं तो इसमे फाइनेंशियल डाटा, पोर्टफोलियो, वाचलिस्ट, म्युचुअल फंड्स, मार्केट वॉच, रिपोर्ट्स, आईपीओ आदि का भी एक्सेस मिल जाता हैं. इसके अलावा यदि कोई पहली बार निवेश कर रहे हैं तो Sharekhan App से फ्री में निवेश की ट्रेनिंग ले सकता हैं और एक्सेस ब्रोकर इसमे निवेश से जुड़े कई सारे ऑनलाइन कोर्सेस भी हैं जिनकी मदद से निवेश से जुड़ी बारीकियों को काफी अच्छी तरह समझा जा सकता हैं. Sharekhan App देश का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक ब्रोकर के रूप में जाना जाता हैं.

Sharekhan किस देश का App हैं?

Sharekhan भारत का App हैं और इसका मुख्यालय भारत के मुंबई, महाराष्ट्र में हैं. इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर पर 10 मार्च 2017 में लॉन्च किया गया था. तब से लेकर आज तक इसके गूगल प्ले स्टोर से 5 मिलियन से भी अधिक डाउनलोड किये जा चुके हैं और इसके यूजर्स की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही हैं. Sharekhan App और वेबसाइट के रूप में एंड्राइड और आईओएस दोनों ही तरह की डिवाइस में बड़ी आसानी से चल जाती हैं. Sharekhan App में BSE और NSE पर इक्विटी कैश और डेरिवेटिव सेगमेंट के लिए व्यापार सुविधा, MCX और NCDX पर कमोडिटी ट्रेडिंग जैसे विकल्प मौजूद हैं. इसके अलावा Sharekhan App से डिमैट अकॉउंट और म्युचुअल फंड्स और आईपीओ में भी इन्वेस्ट किया जा सकता हैं.

Sharekhan App का मालिक कौन हैं?

Sharekhan App के मालिक और संस्थापक का नाम श्रीगोपाल मोराखिया हैं और इसके सीईओ जयदीप अरोड़ा हैं. Sharekhan की शुरूवात फरवरी सन 2000 में एक ऑनलाइन ब्रोकरेज फर्म के रूप में की गई थी. आज यह भारत की सबसे लोकप्रिय ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स में से एक हैं और आईसीआईसीआई डायरेक्ट और एचडीएफसी सिक्योरिटीज के बाद देश का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक ब्रोकर हैं.

दोस्तों अभी आपने जाना कि Sharekhan App क्या हैं?किस देश का ऐप हैं और इसका मालिक कौन हैं? अगर आपको यह जानकारी पसन्द आई हैं एक्सेस ब्रोकर तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर करना मत भूलें और यदि आप इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी सवाल हमसे पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट कर सकते हैं. हम तुरंत आपके सभी सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिस करेंगे.इस ब्लॉग वेबसाइट को शुरू करने का हमारा एकमात्र उद्देश्य आप तक रोज नई-नई जानकारियां पहुचाना हैं. कृपया वेबसाइट पर डेली विजिट करते रहें.धन्यवाद!

एक्सेस ब्रोकर

Got any Questions?
Call us Today!

Toll Free Numbers
(if dialed within India)

Non Toll Free Numbers
(if calling from outside India)

Customers are requested to call on our
mentioned Toll Free Numbers only for any
complaints/issues. Bank shall not be
responsible for any consequences arising
out of customers calling any other
unverified numbers.

निवेश सुविधाएं

निवेश सुविधाएं

अनिवासी भारतीयों के लिए निवेश सुविधाएं

अनिवासी भारतीय भारत में प्रत्यावर्तन के साथ-साथ गैर प्रत्यावर्तन आधार पर निवेश कर सकते हैं।

1. प्रत्यावर्तन आधार पर: अनिवासी भारतीय बिना किसी सीमा के प्रत्यावर्तन के आधार पर निम्नलिखित में निवेश कर सकते हैं।

1. सरकारी दिनांकित प्रतिभूतियां / ट्रेजरी बिल

2. घरेलू म्युचुअल फंड की इकाइयाँ

3. भारत में एक सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) द्वारा जारी बांड

4. भारत में निगमित कंपनी के गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर

5. भारत में बैंकों द्वारा जारी किए गए स्थायी ऋण लिखत और ऋण पूंजी लिखत

6. भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों में शेयरों का विनिवेश किया जा रहा है , बशर्ते कि खरीद बोलियां आमंत्रण की नोटिस में निर्धारित नियमों और शर्तों के अनुसार हो।

7. एफडीआई योजना के तहत भारतीय एक्सेस ब्रोकर कंपनियों के शेयर और परिवर्तनीय डिबेंचर (स्वचालित मार्ग और एफआईपीबी सहित)।

8. पोर्टफोलियो निवेश योजना के तहत स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से भारतीय कंपनियों के शेयर और परिवर्तनीय डिबेंचर।

2 . गैर-प्रत्यावर्तन आधार पर: अनिवासी भारतीय गैर-प्रत्यावर्तन आधार पर निम्नलिखित में बिना किसी सीमा के निवेश कर सकते हैं।

1. सरकारी दिनांकित प्रतिभूतियां/ ट्रेजरी बिल

2. घरेलू म्युचुअल फंड की इकाइयाँ

3. मनी मार्केट म्यूचुअल फंड की इकाइयाँ

4. राष्ट्रीय योजना/बचत प्रमाणपत्र

5. भारत में निगमित कंपनी के गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर

6. पोर्टफोलियो निवेश योजना के तहत स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से भारतीय कंपनियों के शेयर और परिवर्तनीय डिबेंचर।

7. सेबी द्वारा निर्धारित सीमाओं के अधीन , गैर-प्रत्यावर्तनीय आधार पर भारत में धारित आईएनआर फंड में से समय-समय पर सेबी द्वारा अनुमोदित एक्सचेंज ट्रेडेड डेरिवेटिव संविदा ।

पोर्टफोलियो निवेश योजना (पीआईएस)

पोर्टफोलियो निवेश योजना के तहत , अनिवासी भारतीय किसी भारतीय कंपनी के शेयरों और परिवर्तनीय डिबेंचर को प्रत्यावर्तन के साथ-साथ गैर-प्रत्यावर्तन आधार पर किसी मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज के एक पंजीकृत ब्रोकर के माध्यम से एक बैंक शाखा नामित करके , कुछ शर्तों के अधीन निवेश/बिक्री कर सकते हैं।

योजना की मुख्य विशेषताएं:

1. योजना के तहत निवेश की सुविधा के लिए निवासी मुख्तारनामा धारक को पीआईएस खाता संचालित करने की अनुमति दी जा सकती है।

2. अनिवासी भारतीयों को एक विशेष पीआईएस (एनआरओ) खाता खोलने की आवश्यकता होती है , यदि शेयर/डिबेंचर गैर प्रत्यावर्तन आधार पर खरीदे/बेचे जाते हैं। (खाता खोलने के फॉर्म के लिए कृपया यहां क्लिक करें।)

3. प्रत्यावर्तन आधार पर शेयरों/डिबेंचरों की बिक्री/खरीद के लिए , अनिवासी भारतीयों को एक विशेष पीआईएस (एनआरई) खाता खोलना आवश्यक है। (खाता खोलने के फॉर्म के लिए कृपया यहां क्लिक करें।)

1. योजना के तहत अर्जित शेयरों/परिवर्तनीय डिबेंचर को कंपनी अधिनियम , 1956 की धारा 6 में परिभाषित अनुसार अपने करीबी रिश्तेदारों को उपहार के रूप में अंतरित किया जा सकता है। यदि निवासी करीबी रिश्तेदार को उपहार में दिया जाता है , तो इसकी सूचना आरबीआई को फॉर्म एफसी-टीआरएस में दी जानी चाहिए।

2. अनिवासी भारतीयों को पोर्टफोलियो निवेश योजना के तहत शेयरों/डिबेंचरों की खरीद/बिक्री का विवरण एलईसी के रूप में तुरंत उस नामित शाखा को रिपोर्ट करना होगा जहां वे पीआईएस खाते का रखरखाव कर रहे हैं।

3. एनआरआई पीआईएस के लिए केवल एक नामित बैंक शाखा से संपर्क कर सकते हैं।

निम्नलिखित शहरों में हमारी शाखाओं को पोर्टफोलियो निवेश योजना को संभालने के लिए नामित किया गया है:

Currency Trading से कैसे कमा सकते हैं पैसा? यहां जानिए 'करेंसी ट्रेडिंग' से जुड़ी 9 जरूरी बातें

Currency Trading एक्सेस ब्रोकर in Hindi: आप पैसा बनाने की अपनी खोज में Currency Trading का लाभ उठा सकें। आइए इस लेख में जानते है कि करेंसी ट्रेडिंग क्या है? (What is Currency Trading in Hindi) और करेंसी मार्केट से जुड़े अन्य पहलुओं पर नजर डालते है।

  Currency Trading in Hindi: स्टॉक (Stock) और इक्विटी (Equity) ट्रेडिंग के बारे में हर कोई जानता है। लेकिन, एक उच्च क्षमता वाला बाजार है जिसके बारे में ज्यादातर लोगों को जानकारी नहीं है। इस एवेन्यू को मुद्रा व्यापार (Currency Trading) कहा जाता है। Foreign Currencies आपको लाभ का एक मौका देता है अगर आप सही अवसर का पता लगाने और अपने लाभ के लिए उनका उपयोग करने में सक्षम हैं। आइए हम करेंसी मार्केट ट्रेडिंग (Currency Market Trading) के बेसिक कांसेप्ट को समझते हैं ताकि आप पैसा बनाने की अपनी खोज में Currency Trading का लाभ उठा सकें। तो आइए इस लेख में जानते है कि करेंसी ट्रेडिंग क्या है? (What is Currency Trading in Hindi) और करेंसी मार्केट से जुड़े अन्य पहलुओं पर नजर डालते है।

1) करेंसी मार्केट क्या है? | What is Currency Market in Hindi

इंटरनेशनल करेंसी मार्केट में दुनिया भर के प्रतिभागी शामिल होते हैं। वे विभिन्न मुद्राओं को खरीदते और बेचते हैं। Currency Trading प्रतिभागियों में बैंक, कॉर्पोरेशन, सेंट्रल बैंक (जैसे भारत में RBI), निवेश इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट फर्म, हेज फंड, रिटेल फॉरेक्स ब्रोकर और आपके जैसे निवेशक शामिल हैं। फॉरेन करेंसी ट्रेडिंग लाभ कमाने का एक लीगल तरीका है।

2) करेंसी मार्केट फ्यूचर्स क्या हैं? | What is Currency Market Future in Hindi

Currency Market, जिसे फॉरेन करेंसी मार्केट भी कहा जाता है, निवेशकों को विभिन्न मुद्राओं पर पोजीशन लेने में मदद करता है। दुनिया भर के निवेशक ट्रेडों के लिए करेंसी फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट का इस्तेमाल करते हैं।

करेंसी फ्यूचर्स निवेशकों को भविष्य की तारीख में पहले से तय कीमत पर करेंसी खरीदने या बेचने की अनुमति देता है।

3) इंडियन करेंसी मार्केट क्या है? | What is Indian Currency Market in Hindi

भारत में करेंसी फ्यूचर्स कैश सेटलमेंट हैं। इसका मतलब है कि भारत में इस तरह के Currency Trading का भौतिक रूप से निपटान नहीं होता है यानी समाप्ति पर करेंसी की कोई वास्तविक डिलीवरी नहीं होती है।

करेंसी फ्यूचर का कारोबार एनएसई, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE), MCX-SX जैसे एक्सचेंजों द्वारा पेश किए गए प्लेटफॉर्म पर किया जाता है। करेंसी ट्रेडिंग आमतौर पर सुबह 9 बजे से शाम 5.00 बजे तक होती है। लाइव करेंसी मार्केट में ट्रेड करने के लिए आपको एक फॉरेक्स ट्रेडिंग एकाउंट एक ब्रोकर के साथ खाता खोलना होगा

4) करेंसी मार्केट के प्रकार क्या हैं? | Types of Currency Market in Hindi

दुनिया भर में, दो मुख्य प्रकार के Currency Market हैं। पहला स्पॉट मार्केट या कैश मार्केट है।

दूसरा फ्यूचर मार्केट है जहां करेंसी फ्यूचर कारोबार होता है। इंडियन करेंसी मार्केट में, फ्यूचर कारोबार करने का पसंदीदा तरीका है।

5) करेंसी ट्रेडिंग की मूल बातें क्या हैं? | Basic of Currency Trading

याद रखने वाली पहली बात यह है कि Currency Trading में व्यापार हमेशा मुद्राओं की एक जोड़ी (Pair of Currencies) के बीच होता है। इक्विटी या स्टॉक मार्केट के विपरीत जहां आप एक कंपनी का शेयर खरीदते हैं, भारत में करेंसी ट्रेडिंग में करेंसी पेयर पर पोजीशन लेना शामिल होगा।

उदाहरण के लिए, EUR/USD रेट एक यूरो द्वारा खरीदे जा सकने वाले अमेरिकी डॉलर की संख्या का प्रतिनिधित्व करती है। अगर आपको लगता है कि यूरो अमेरिकी डॉलर के मुकाबले मूल्य में वृद्धि करेगा, तो आप अमेरिकी डॉलर के साथ यूरो खरीदते हैं।

जब एक्सचेंज रेट बढ़ता है, तो आप यूरो वापस बेचते हैं, और आप अपने लाभ को भुनाते हैं।

6) करेंसी ट्रेडिंग शुरू करने के लिए किन-किन चीजों की जरूरत होती है?

भारत में करेंसी ट्रेडिंग शुरू करने के लिए निम्नलिखित कदम उठाएं। भारत में मुद्रा बाजार बढ़ रहा है और इस क्षेत्र में अपना सही स्थान लेने का यह सही समय हो सकता है।

  • एक प्रतिष्ठित ब्रोकर के साथ एक करेंसी ट्रेडिंग एकाउंट खोलें।
  • कस्टमर KYC (अपने ग्राहक को जानें) मानदंडों का पालन करें।
  • आवश्यक मार्जिन अमाउंट जमा करें।
  • शुरू करने के लिए अपने ब्रोकर से अपेक्षित एक्सेस क्रेडेंशियल प्राप्त करें।

7) करेंसी मार्केट कैसे काम करता है? | How does the currency market work?

करेंसी या फॉरेक्स मार्केट एक विकेन्द्रीकृत (Decentralized) विश्वव्यापी बाजार है। आज यह दुनिया का सबसे बड़ा फाइनेंसियल मार्केट है और इसका एवरेज डेली वॉल्यूम लगभग 5 ट्रिलियन डॉलर है। एक बड़े करेंसी ट्रेड में करेंसी पेयर में मुद्राओं में से एक के रूप में अमेरिकी डॉलर शामिल होता है।

भारतीय एक्सचेंजों में करेंसी डेरिवेटिव सेगमेंट 4 करेंसी जोड़ियों पर करेंसी फ्यूचर्स, 3 करेंसी पेयर (EUR-USD, GBP-USD, और USD-JPY) पर क्रॉस-करेंसी फ्यूचर्स और ऑप्शंस जैसे डेरिवेटिव इंस्ट्रूमेंट्स में ट्रेडिंग प्रदान करता है। डिमांड और सप्लाई करेंसी मार्केट को चलाने का काम करती है।

8) करेंसी मार्केट में ट्रेडिंग करते समय किन बातों का ध्यान रखें?

एक सफल करेंसी ट्रेडर बनने के लिए आपको अपनी मूल बातें, लक्ष्य और जोखिम प्रबंधन सही रखना होगा। यहां उन चीजों की लिस्ट दी गई है जिन्हें आपको याद रखना चाहिए-

  • अपने ट्रेडिंग स्टाइल को समझें - प्रत्येक करेंसी ट्रेडर की एक ट्रेडिंग स्टाइल होती है। यह ट्रेडर के रिस्क प्रोफाइल से जुड़ा होता है। नियमित रूप से ट्रेड करने से पहले खुद को ठीक से समझ लें।
  • सही ब्रोकर और प्लेटफॉर्म चुनें - करेंसी ट्रेडिंग में एक अच्छा ब्रोकर होना सफलता के लिए महत्वपूर्ण है। जब भारत में फॉरेक्स ट्रेडिंग की बात आती है तो एक अच्छा ब्रोकर आपको संभाल लेगा, और सुनिश्चित करेगा कि आप लाइव करेंसी मार्केट न्यूज़ के बारे में अपडेट हैं।
  • अपनी सीमाएं जानें - कोई भी Currency Trading करने से पहले, व्यापार के लिए एंट्री और एग्जिट पॉइंट निर्धारित करें। कोई भी व्यापार निश्चित रूप से गारंटी नहीं है और इसलिए स्थिति प्रतिकूल होने पर दोगुना या बाहर निकलने के लिए तैयार रहें। संभावित व्यापार परिदृश्यों के बारे में एक अच्छा विचार आपको बहुत मदद करेगा।

9) मुद्रा व्यापार में शामिल जोखिम क्या हैं? | Risk Involved in Currency Trading

कृपया ध्यान रखें कि फॉरेक्स ट्रेडिंग में नुकसान का हाई रिस्क शामिल है। चूंकि आप एक मुद्रा जोड़ी के साथ काम कर रहे हैं, इसलिए अधिक चर हैं। लेकिन, किसी भी वित्तीय व्यापार या निवेश में जोखिम शामिल होते हैं।

जब आप करेंसी मार्केट ट्रेडिंग करते हैं, तो उधार ली गई धनराशि के आधार पर ट्रेडिंग न करके जोखिमों को सीमित करें और कभी भी खुद को स्ट्रेच न करें। ये केवल दो प्रमुख जोखिम हैं।

किसी भी प्रकार के व्यापार की तरह, ऐसे दिन होंगे जब आपके पास अधिक विजेता ट्रेड होंगे और कुछ दिन ऐसे होंगे जब आप अधिक हारेंगे। अपनी गलतियों से सीखें और उन्हें अपनी सफलता के लिए उपयोग करें। एक अच्छा तरीका यह होगा कि आप अपने ट्रेडों के बारे में एक नोटबुक रखें और देखें कि आप कहां गलत हुए।

Myntra End Off Region Sale: मिंत्रा का ईओआरएस का पहला दिन 12 लाख ग्राहकों के लिए लेकर आया खरीदारी का आनंद

Myntra End Off Region Sale: मिंत्रा का ईओआरएस का पहला दिन 12 लाख ग्राहकों के लिए खरीदारी का आनंद लेकर आया है.

Published: July 6, 2021 8:14 AM IST

Myntra End Off Region Sale: मिंत्रा का ईओआरएस का पहला दिन 12 लाख ग्राहकों के लिए लेकर आया खरीदारी का आनंद

Myntra End Off Region Sale: मिंत्रा के ईओआरएस (Myntra End Off Region Sale) का पहला दिन 12 लाख से अधिक ग्राहकों के लिए खरीदारी की खुशी लेकर आया, जिन्होंने 40 लाख उत्पादों की खरीदारी की, जो मिंत्रा के लिए पहले दिन के ट्रैफिक सत्र (Traffic Session) में सबसे अधिक वृद्धि है. पहली बार टियर 2-3 से आने वाले लगभग 53 प्रतिशत ग्राहक मिंत्रा पर अपनी पहली खरीदारी करने आगे आए, जिससे 14वें संस्करण को एक बड़ा प्रोत्साहन मिला. अब तक की सबसे बड़ी वृद्धि में, एक मिलियन नए ग्राहकों ने मिंत्रा एप इंस्टॉल किया.

Also Read:

मुख्य हाईलाइट्स :

  1. ग्राहकों ने अर्ली एक्सेस के दौरान 2.7 मिलियन उत्पाद खरीदे.
  2. अर्ली एक्सेस के दौरान 8.5 लाख से अधिक ऑर्डर दिए गए, जिनमें से लगभग 3.5 लाख मिंत्रा के इनसाइडर और लॉयल्टी प्रोग्राम के सदस्य हैं.
  3. बिक्री के पहले 12 घंटों के दौरान रिकॉर्ड 1.6 मिलियन उत्पाद बेचे गए.
  4. 3 जुलाई तक अर्ली एक्सेस से कुल 1.3 लाख आइटम डिलीवर किए गए.
  5. ग्राहकों ने हर सेकेंड में 8 ब्यूटी और पर्सनल केयर आइटम खरीदे.

पहले घंटे के दौरान 5 सबसे लोकप्रिय उत्पाद थे-

  1. यूएस पोलो ब्लू सॉलिड टी-शर्ट – 5,225
  2. रोडस्टर पुरुषों की ग्रे सॉलिड टी-शर्ट – 5,032
  3. लक्मे आईकोनिक काजल – 4,651
  4. नाइके मेन ब्लैक रेवोल्यूशन रनिंग शूज – 4,095
  5. बोट ब्लैक एयरडोप्स – 3,053

मिंत्रा ने पहले दिन बीएयू पर 6 गुना की वृद्धि दर्ज की, जिसमें अधिकांश दुकानदारों ने पुरुषों के कैजुअल वियर, महिलाओं के वेस्टर्न वियर, पर्सनल केयर आदि के ऑर्डर दिए. शर्ट, कुर्ता, ड्रेस, टॉप, हेडफोन, ब्रा, स्मार्टवॉच और हैंडबैग में पिछले जून की तुलना में सबसे अधिक वृद्धि देखी गई. पुरुषों की जींस और स्ट्रीटवियर ने शीर्ष श्रेणियों में कब्जा किया, इसके बाद महिलाओं के वेस्टर्न वियर और एथनिक वियर हैं, जो कुल बिक्री का 50 प्रतिशत से अधिक है.

अर्ली एक्सेस के दौरान ग्राहकों ने 3 मिलियन से अधिक आइटम खरीदे, जिनमें ज्यादातर टी-शर्ट, कुर्ता, टॉप, शर्ट शामिल थे.

कुछ टॉप ब्रांड टॉमी हिलफिगर, लेविस, जैक एंड जोन्स, यूसीबी, एचएंडएम, फ्लाइंग मशीन, नौटिका, बीबा, वेरो मोडा, ओनली, मैंगो, लिबास, वरंगा, नाइके, प्यूमा, स्केचर्स, क्रोक्स, बोट, एप्पल, फॉसिल थे.

अपडेट के बारे में बोलते हुए, मिंत्रा के सीईओ अमर नगरम ने कहा, “ईओआरएस का पहला दिन हमेशा हमारे साथ-साथ दुकानदारों और हमारे भागीदारों के लिए सबसे रोमांचक समय होता है. अब तक के सबसे बड़े उद्घाटन दिवस के साथ, यह ईओआरएस इस बात का प्रमाण है कि ग्राहक कैसे मिंत्रा में अपना विश्वास बनाए रख रहे हैं.”

पहले दिन सभी क्षेत्रों में ग्राहकों एक्सेस ब्रोकर की जबरदस्त मांग देखने को मिली. मुंबई और पुणे ईओआरएस के दिसंबर 2020 संस्करण में और टियर 2/3 शहरों में सबसे अधिक वृद्धि दिखा रहे हैं – दक्षिण से मैसूर, मैंगलोर, पूर्व से भुवनेश्वर और कटक, उत्तर पूर्व से शिलांग और गुवाहाटी, मध्य भारत से भोपाल और नागपुर, ईओआरएस के इस संस्करण में उत्तर से लुधियाना और भटिंडा, पश्चिम से नासिक और उदयपुर का योगदान रहा है.

पहली बार आने वाले ग्राहकों में से लगभग 53 प्रतिशत टियर 2-3 और उसके बाद के थे, जिनमें सबसे अधिक खरीदार गुवाहाटी, भुवनेश्वर, देहरादून और इंफाल, उदयपुर, शिलांग से क्रमश: टियर 2 और 3 शहरों से आए थे.

छह दिवसीय यह आयोजन 8 जुलाई को समाप्त होगा और 18,000 से अधिक एक्सेस ब्रोकर किराना भागीदारों के लिए आय के अवसर को बढ़ाएगा, जो महानगरों, टियर 2-3 और उससे आगे के 27,000 पिन कोड में अपनी सामग्री को वितरित करेंगे.

(With IANS Inputs)

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

रेटिंग: 4.94
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 845
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *