दिन के कारोबार के लिए एक परिचय

फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट या टाइम डिपॉजिट अकाउंट

फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट या टाइम डिपॉजिट अकाउंट
follow Us On

एफ डी कैलकुलेटर

फिक्स्ड डिपॉजिट कैलकुलेटर आपको यह निर्धारित करने में मदद करेगा कि फिक्स्ड डिपॉजिट में एक निश्चित अवधि के लिए निवेश करके आप कितना ब्याज दर पा सकते हैं। बस निम्नलिखित जानकारी प्रदान करें, और आप आसानी से एफ डी लागू ब्याज दर की गणना कर सकते हैं। ऑनलाइन एफडी कैलकुलेटर का उपयोग मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक या वार्षिक आधार पर चक्रवृद्धि ब्याज लगाकर परिपक्वता राशि निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

ग्राहक प्रकार:

फिक्स्ड डिपॉजिट प्रकार

फिक्स्ड डिपॉजिट की तिथि

जमा राशि ( ) Amount Deposit in between 5K to 1.99Cr

कार्यकाल

एफडी परिपक्वता विवरण

परिपक्वता मूल्य

(यहां प्रदर्शित ब्याज दर केवल गणना के उद्देश्य के लिए हैं। नवीनतम ब्याज दरों के लिए यहां क्लिक करें।)

एकत्रित
राशि

  • प्रचलित दर के अनुसार अर्जित ब्याज पर टीडीएस लागू होगा।
  • दरें 2Cr > रेजिडेंट डिपॉजिट के लिए ऑटो पॉप्युलेटेड हैं

Amount and Interest

अस्वीकरण

एक्सिस बैंक इसमें प्रदान किए गए किसी भी विवरण की सटीकता, पूर्णता या सही अनुक्रम की गारंटी नहीं देता है और इसलिए किसी भी उद्देश्य के लिए उपयोगकर्ता द्वारा किसी भी उद्देश्य के लिए कोई भी निर्भरता नहीं रखी जानी चाहिए जो कि इसमें शामिल जानकारी / डेटा या इसकी पूर्णता / सटीकता पर उत्पन्न होती है। किसी भी सूचना का उपयोग पूरी तरह से उपयोगकर्ता के रिस्क पर है। शामिल सूचना के आधार पर / डेटा उत्पन्न के साथ किसी निर्णय लेने, कार्य करने या कार्य करने के लिए चूक करने से पहले उपयोगकर्ता उचित देखभाल और सावधानी बरतें (यदि आवश्यक हो, कर / कानूनी / लेखा / वित्तीय / अन्य पेशेवरों की सलाह प्राप्त करना) । एक्सिस बैंक किसी डेटा को अपडेट करने के लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं लेता है। कोई दावा नहीं है (चाहे अनुबंध में लापरवाही या अन्यथा, एक्सिस बैंक के खिलाफ सेवाओं के संबंध जो उससे उत्पन्न हो। किसी भी प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष, आकस्मिक, विशेष या परिणामी नुकसान या नुकसान (सहित, लाभ हानि, व्यापार के अवसर के लिए सीमा के बिना, सहित) के लिए न तो एक्सिस बैंक और न ही उसके एजेंट या लाइसेंसकर्ता या समूह की कंपनी उपयोगकर्ता / किसी तीसरे पक्ष के लिए (सद्भावना की हानि चाहे जो भी हो, अनुबंध में, टोट, गलत बयानी या अन्यथा इन उपकरणों के उपयोग से उत्पन्न होने वाली जानकारी / इसमें निहित / डेटा उत्पन्न होता है) उत्तरदायी नहीं होगा।

What is Fixed Deposit?

Fixed Deposit, a type of Term Deposit is popular quite a popular investment choice in India due to high interest rate (as compared to regular savings account) and low risk. The interest rate is fixed for the whole maturity period and, it's usually considered as an extremely safe investment. The interest rates differ from bank to bank and the interest earned can be calculated Cumulative, Quarterly, Monthly and Standard.

Benefits of FD

  • Comparatively safe investment
  • Stable and predicted returns (example 8% per annum)
  • Well suitable for conservative investors like senior citizens

Limitations of FD

  • Low liquidity
  • Low returns because effective returns are lower considering taxes and inflation
  • Not suitable for long term wealth creation or the investors with high risk appetite like young investors in their 20s or 30s

Currently, Senior citizens earn approximately 50 to 60 basis points higher rate of interest depending on the tenure chosen.

The Interest earned on a bank FD with a tenure of less than 6 months, is calculated at simple interest and is considered on the number of days.

Whereas the interest earned on FDs having a tenure of 6 months and above, is compounded quarterly i.e. is interest earned during the previous quarter is added to फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट या टाइम डिपॉजिट अकाउंट the principal for calculation of interest.

For monthly interest payout option, the interest paid will be calculated at a discounted rate over the standard rate. In case you chose a quarterly payout option then interest is calculated and paid quarterly.

The minimum investment amount if you book a bank FD via the Mobile app or Internet Banking is Rs 5,000. But if you visit a bank branch, the minimum investment amount is Rs 10,000.

The minimum tenure of your bank FD can be as low as 7 days.

The money invested in a tax-saver bank FD is eligible for a deduction of up to Rs 1.5 lakh under Section 80C of the Income Tax Act, 1961 and subject to a lock-in period of 5 years.

You can book a 5-year tax saver FD with a minimum amount of Rs 100 and in multiples thereof but to subject to a maximum of Rs 1.5 lakh.

On the other hand, a regular bank FD is not subject to a lock-in period and does not qualify for a deduction under Section 80C of the Income-Tax Act, 1961. The minimum investment amount in case of a regular bank FD is Rs 5,000.

Yes, the interest earned on bank fixed deposit is taxable under the Income Tax Act, 1961.

The tax is deducted at source by the bank as per the prevailing rules. The rate for TDS (Tax Deduction at Source) is 10%, if PAN is furnished; and if not, TDS is 20%. No surcharge or cess is levied over and above this basic rate.

TDS, with respect to interest earned on your bank FD, is deducted based on the total interest projected on the aggregate of your bank FD for the financial year.

If the total projected interest in a financial year crosses the threshold limit, which is currently Rs 10,000 for non-senior citizens, TDS is deducted proportionately from the existing fixed deposits at the time of interest application. For senior citizens (60 years and above), the union budget 2018 has increased the exemption of interest income on deposits with banks (includes fixed deposits) and post offices from Rs 10,000 to Rs 50,000.

In case, you have no other income apart from interest income, in order to avoid TDS, you can submit a declaration under Section 197A of the Income Tax Act in Form 15-G (for general or non-senior citizens) or Form 15-H (for senior citizens), as applicable.

Furthermore, in order to avoid TDS, split your bank FDs across branches of the Bank. Splitting bank FDs will also enable you to address your liquidity needs.

You can flexibly withdraw the money from fixed deposits before maturity subject to a penalty of 1.0%.

However, if you wish to withdraw the money only partially, then Axis Bank levies no penalty on first partial withdrawal of upto 25% of the principal amount.

Also note, premature withdrawal is not permitted in case of a 5-year Tax Saver Fixed Deposit.

When you bank FD matures, there are two options of rollover/renewing the FD.

फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट या टाइम डिपॉजिट अकाउंट

logo

Post Office FD Account : अगर आप बैंक की बजाय डाकघर (Post Office) में एफडी कराना चाहते हैं और आपके पास जानी का समय नहीं है तो अब आप घर बैठे पोस्ट ऑफिस में एफडी एकाउंट ऑनलाइन खोल सकते हैं।

follow Us On

Post Office Scheme: नहीं है पोस्ट ऑफिस जाने का टाइम, तो इस तरह खोलें घर बैठे FD Account

इसके लिए आपको पोस्ट ऑफिस जाने की भी कोई जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि बैंक की ही तरह पोस्ट ऑफिस भी आपको एक साल, दो साल, तीन साल और पांच साल के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम की सुविधा देता है।

पोस्ट ऑफिस की फिक्स्ड डिपॉजिट को टाइम डिपॉजिट कहा जाता है। Post Office Time Deposit में अलग-अलग अवधि के हिसाब से अलग-अलग ब्याज दर तय होती हैं। इसमें निवेशकों को कंपाउंडिंग का भी लाभ मिलता है।

बता दें कि पोस्ट ऑफिस की फिक्स्ड डिपॉजिट में ब्याज का भुगतान सालाना आधार पर किया जाता है, लेकिन इसकी गणना तिमाही के आधार पर की जाती है। पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट में अगर आप एक साल के लिए पैसा फिक्स करते हैं तो आपको 5.50% प्रतिशत के हिसाब से ब्याज दिया जाएगा।

दो वर्ष के टाइम डिपॉजिट पर 5.70%, 3 वर्ष पर 5.80% और 5 वर्ष के टाइम डिपॉजिट पर 6.70% के हिसाब से ब्याज मिलता है। अगर आप भी पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट में निवेश करने का मन बना चुके हैं, तो आपको इसके लिए पोस्ट ऑफिस के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं, आप घर बैठे इसे आसानी से इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन खोल सकते हैं।

ऐसे ओपन करें एफडी अकाउंट

  • पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट अकाउंट खोलने की सुविधा इंट्रा ऑपरेबल नेटबैंकिंग / मोबाइल बैंकिंग के जरिए दी जाती है।
  • आपको रजिस्टर्ड यूजर आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके पोस्ट ऑफिस ई-बैंकिंग https://ebankin.indiapost.gov.in पर लॉग-इन करना होगा।
  • इसके बाद ‘जनरल सर्विसेज’ के ऑप्शन पर जाएं और ‘सर्विस रिक्वेस्ट’ पर फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट या टाइम डिपॉजिट अकाउंट जाकर और खोलें।
  • इसके बाद ‘न्यू रिक्वेस्ट’ के ऑप्शन पर जाएं और टाइम डिपॉजिट अकाउंट खोलने के लिए आवेदन करें।
  • आपको कुछ दस्तावेजों को अपलोड करने होंगे। जैसे- एक्टिव सेविंग अकाउंट, पैन कार्ड, केवाईसी डॉक्यूमेंट्स, एक्टिव DOP ATM या डेबिट कार्ड और मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी आदि।
  • आवेदन की सभी प्रक्रिया पूरी होने के बाद वेरिफाई किया जाएगा।
  • इसके बाद वेरिफाई करने के बाद आपका एफडी अकाउंट खोल दिया जाएगा।

ये है ऑफलाइन अकाउंट खोलने का तरीका

अगर आप यह एफडी खाता ऑफलाइन खोलना चाहते हैं तो आपको ऑफलाइन अकाउंट खुलवाने के लिए सभी जरूरी दस्तावेजों को साथ लेकर नजदीकी डाक घर की शाखा में जाना होगा।

वहां आपको संबन्धित अधिकारी से पोस्ट ऑफिस एफडी को खोलने की सभी जरूरी जानकारी लेनी होगी। इसके बाद उसे फॉलो करके आप अपना टाइम डिपॉजिट अकाउंट ऑफलाइन खुलवा सकते हैं।

FROM AROUND THE WEB

About Us

Haryana Update News Network – HU is a digital news platform that will give you all the Information and updated news of Haryana and India. You will bring all the news related to your life which affects you everyday, everytime and every minute. From the political corridors to the discussion of Nukkad, from the farm to the ration shop, from playground to international Stadium, School's Classroom to Universities, there will be news of you. We Update you from health to health insurance updates, kitchen or self care, dressing or dieting, election or nook meeting, entertainment or serious crime, from small kitchen gadgets to mobile and advance technology. By joining us you will be definitly get Up-to-date with a single second.

पोस्ट ऑफिस या SBI: कहां लगाएं FD में पैसा, यहां समझिए पूरा गणित

Post Office Vrs SBI

अगर आप भी अपने निवेश पर ज्यादा रिटर्न के लिए कोई अच्छा इनवेस्टमेंट प्लान (Investment Plan) खोज रहे हैं तो यह खबर आपके काम की हो सकती है. दरअसल, अक्सर हम इनवेस्टमेंट के लिए मन तो बना लेते हैं लेकिन यह नहीं समझ पाते कि किस प्लान को चुनना फायदेमंद रहेगा. इसके लिए अब आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं होगी. इस रिपोर्ट में आपको बताएंगे कि पोस्ट ऑफिस (Post Office) और भारतीय स्टेट बैंक (SBI) दोनों में से किसकी फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposit-FD) में पैसा लगाना फायदेमंद रहेगा. कुछ दिन पहले देश के सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक एसबीआई (SBI) ने FD पर ब्याज की दरों में बढ़ोतरी की थी. बहुत से लोग एसबीआई की FD प्लान्स में निवेश की योजना बना रहे होंगे. ऐसे अगर आप भी निवेश करने की योजना बना रहे हैं तो इससे पहले पोस्ट ऑफिस की नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट की ब्याज दरों के बारे में भी जान लें ताकि दोनों संस्थानों की FD पर ब्याज दरों को कंपेयर करके आप अपने लिए सही निवेश चुन सकें.

क्या है नेशनल सेविंग टाइम डिपॉजिट
यह एक तरह की FD ही है. इसमें एक तय समय के लिए निवेश करके आप निश्चित रिटर्न पा सकते हैं. टाइम डिपॉजिट अकाउंट 1 से 5 साल तक की अवधि के लिए 5.5 से 6.7% तक ब्याज दर की पेशकश करता है और इसमें 1,000 रुपये से निवेश कर सकते हैं. वहीं अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक फिलहाल नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट में 6.7% तक का ब्याज मिल रहा है.

कितने टाइम में होगा पैसा डबल
नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट की बात करें तो फिलहाल इसमें अधिकतम ब्याज 6.7% मिल रहा है. ऐसे में रूल 72 के अनुसार अगर आप इस स्कीम में इनवेस्ट करते हैं तो पैसे को डबल होने में 10 साल 7 महीने का समय लगेगा. वहीं अगर भारतीय स्टेट बैंक में FD करवाते हैं तो यहां अधिकतम ब्याज 5.4% मिल रहा है. ऐसे में रूल 72 के अनुसार अगर आप इस इस स्कीम में इनवेस्ट करते हैं तो पैसे को डबल होने में 13 साल 3 महीने का समय लगेगा.

डिपॉजिट अवधि और ब्याज की दरें

डिपॉजिट अवधि टाइम डिपॉजिट अकाउंट भारतीय स्टेट बैंक
1 साल 5.5% 5.10%
2 साल 5.5% 5.20%
3 साल 5.5% 5.30%
5 साल 6.7% 5.40%

5 साल के लिए निवेश पर टैक्स में छूट
अगर आप दोनों ही स्कीमों में 5 साल तक की अवधि के फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट या टाइम डिपॉजिट अकाउंट लिए निवेश करते हैं तो आपको टैक्स पर भी छूट मिलती है. 5 साल के लिए निवेश करने पर इनकम टैक्स एक्ट 1961 के सेक्शन 80Cके तहत टैक्स छूट का फायदा ले सकते हैं. इसके तहत 1.50 लाख रुपए तक के निवेश पर आप इनकम टैक्स छूट का लाभ ले सकते है.

क्या है SBI की एन्युइटी डिपॉजिट स्कीम? कैसे कराती है मंथली इनकम

क्या है SBI की एन्युइटी डिपॉजिट स्कीम? कैसे कराती है मंथली इनकम

SBI की यह स्कीम उन लोगों के लिए ज्यादा फायदेमंद है, जिन्हें कहीं से बड़ी धनराशि मिली है और आय का कोई दूसरा बड़ा स्त्रोत नहीं है.

अक्सर हम सुनते हैं कि फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) का ब्याज, मैच्योरिटी पर ही मिलेगा. लेकिन SBI (State Bank of India) की एक फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम ऐसी भी है, जो आपको मंथली इनकम कराती है. इस स्कीम का नाम है. इसके तहत ग्राहक वन टाइम डिपॉजिट करके हर महीने एक फिक्स्ड अमाउंट पा सकते हैं. SBI की यह स्कीम उन लोगों के लिए ज्यादा फायदेमंद है, जिन्हें कहीं से बड़ी धनराशि मिली है और आय का कोई दूसरा बड़ा स्त्रोत नहीं है. उदाहरण के तौर पर रिटायर हो चुके कर्मचारी. आइए जानते हैं SBI की इस स्कीम की डिटेल.

कौन खोल सकता है अकाउंट

SBI एन्युइटी डिपॉजिट स्कीम में नाबालिग सहित कोई भी व्यक्ति अकाउंट खोल सकता है. स्कीम का लाभ देशभर में मौजूद SBI शाखाओं में लिया जा सकता है. अकाउंट सिंगल या ज्वॉइंट में खुलवाया जा सकता है. साथ ही अकाउंट को SBI की एक ब्रांच से दूसरे में ट्रांसफर करने की सुविधा है.

डिपॉजिट लिमिट और ब्याज दर

SBI एन्युइटी डिपॉजिट स्कीम में कोई अधिकतम डिपॉजिट लिमिट नहीं है. ब्याज दर SBI की फिक्स्ड डिपॉजिट की ब्याज दर के समान है. SBI में अभी एफडी पर विभिन्न मैच्योरिटी पीरियड के लिए ब्याज दर 2.90 फीसदी सालाना से लेकर 5.65 फीसदी सालाना तक है. 60 वर्ष या उससे अधिक की आयु वाले वरिष्ठ नागरिकों को देय ब्याज दर, 3.40 फीसदी सालाना से लेकर 6.45 फीसदी सालाना तक है. SBI स्टाफ और SBI पेंशनभोगियों को देय ब्याज दर, लागू ब्याज दर से 1.00% अधिक होगी.

बैंक के मुताबिक Annuity Deposit Scheme में ब्याज का भुगतान जिस दिन अकाउंट खोला गया, उसके अगले महीने की उसी तारीख से शुरू होगा. जमा अवधि 3, 5, 7 या 10 साल है. याद रहे भुगतान TDS (Tax Deducted at Source) काटने के बाद खाते में होगा.

मिनिमम मंथली इनकम

मंथली इनकम, मिनिमम 1000 रुपये से शुरू होगी और इसी के आधार पर आपके द्वारा चुनी गई जमा अवधि के लिए डिपॉजिट अमाउंट निर्धारित होगा. ध्यान रहे कि चूंकि यह स्कीम मासिक भुगतान वाली है, इसलिए इसमें आपके द्वारा जमा किया गया मूलधन धीर-धीरे घटता जाएगा.

ओवरड्राफ्ट सुविधा

विशेष मामलों में एन्युइटी के बैलेंस अमाउंट के 75 फीसदी तक ओवरड्राफ्ट/लोन लिया जा सकता है. ओवरड्राफ्ट दिए जाने के बाद केवल ऋण खाते में ही एन्युइटी की राशि का भुगतान होगा. स्कीम के तहत अकाउंट को जमाकर्ता की मृत्यु की स्थिति में मैच्योरिटी से पहले बंद कर सकते हैं. 15 लाख रुपये तक के डिपॉजिट्स के लिए भी समय पूर्व भुगतान की अनुमति है, लेकिन प्रीमैच्योर क्लोजर पर पेनल्टी लगेगी.

Post Office Time Deposit Account : ऐसे खुलवाये अपना पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट खाता , मिलेगी दुगुनी राशी

Post Office Time Deposit Account : पोस्ट-ऑफिस टर्म डिपॉजिट ( Post Office Time Deposit ) स्कीम इंडिया पोस्ट ( Post Office ) द्वारा दी जाने वाली एक निवेश ( Investment ) बचत खाता योजना है ! यह स्कीम उन डिपॉजिटर्स के लिए है जो पांच साल की टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट के लिए एकमुश्त पैसा जमा करना चाहते हैं !

Post Office Time Deposit Account

Post Office Time Deposit Account

Post Office Time Deposit Account

इस लेख में, हम पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट खाता ( Post Office Time Deposit Account ) को विस्तार से देखते हैं ! छोटे कार्यकाल के लिए कर लाभ लागू नहीं है ! कर लाभ केवल तभी प्राप्त किया फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट या टाइम डिपॉजिट अकाउंट जा सकता है जब समय जमा खाता योजना 5 वर्षों के लिए खोली जाती है ! आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट का लाभ प्रदान किया जाता है !

पात्रता मापदंड ( Post Office Time Deposit Account )

पोस्ट-ऑफिस टाइम डिपॉजिट खाता ( Post Office Time Deposit Account ) योजना किसी भी ऐसे व्यक्ति द्वारा खोली जा सकती है ! जो नीचे के मानदंडों को पूरा करता है !

  • कोई भी भारतीय जिसकी आयु 18 वर्ष से अधिक है ! ( Post Office )
  • संयुक्त रूप से दो व्यक्ति (10 वर्ष से अधिक आयु के नाबालिग अपने अभिभावक के साथ संयुक्त रूप से खाता खोल सकते हैं)
  • माता-पिता या अभिभावक इस समय जमा खाते ( Post Office Time Deposit ) को नाबालिग की ओर से खोल सकते हैं !

ध्यान दें :

  • समूह खाते, संस्थागत खाते और विविध खाते स्वीकार्य नहीं हैं !
  • ट्रस्ट, रेजिमेंटल फंड या वेलफेयर फंड निवेश ( Investment ) करने की अनुमति नहीं है !

पोस्ट ऑफिस की सावधि जमा योजना की विशेषताएं

नीचे सूचीबद्ध इंडिया पोस्ट ( Post Office Time Deposit ) द्वारा सावधि जमा खाते की मुख्य विशेषताएं हैं !

  • खाते की परिपक्वता अवधि 5 वर्ष की होगी और इसे वर्ष के आधार पर अगले वर्षों के लिए बढ़ाया भी जा सकता है !
  • यह पांच वर्षीय पोस्ट-ऑफिस टर्म डिपॉजिट स्कीम ( Post Office Time Deposit ) निवेश ( Investment ) और कर कटौती पर रिटर्न भी प्रदान करता है !
  • बहुमत पूरा करने के बाद, खाता ( Post Office Time Deposit ) खोलने वाले नाबालिग को अपने नाम पर खाते के परिवर्तन के लिए आवेदन करना होगा !
  • एकल खाते को संयुक्त खाते में बदला जा सकता है और इसके विपरीत ! ( Post Office )
  • नामांकन की सुविधा भी उपलब्ध है कि खाताधारक खाता खोलने के दौरान या आराम से समय जमा खाता खोलने के बाद भी नामांकन कर सकता है !

पोस्ट ऑफिस टाइम डिपाजिट ब्याज दरें (Post Office Time Deposit Interest Rate)

प्रदान की गई ब्याज दर 5 साल के लिए एक पोस्ट ऑफिस के टाइम डिपॉजिट अकाउंट पर 7.4% होगी ! पोस्ट ऑफिस फिक्स्ड डिपॉजिट ( Post Office Time Deposit ) पर लागू मौजूदा ब्याज दर के बारे में जानने के लिए कृपया नीचे दी गई तालिका देखें !

डाकघर ( Post Office ) में उल्लिखित सावधि जमा दरें समय-समय पर परिवर्तनशील और परिवर्तनशील होती हैं ! इसलिए, खाता ( Post Office Time Deposit Account ) खोलने से पहले वर्तमान डाकघर सावधि जमा ब्याज दर की जांच करना सुनिश्चित करें ! वित्त मंत्रालय द्वारा प्रत्येक तिमाही में उपरोक्त ब्याज दरों की समीक्षा की जाती है !

अवधि मूल्यांकन करें
1 वर्ष का खाता 7.00%
2 साल का खाता 7.00%
3 साल का खाता 7.00%
5 साल का खाता 7.80%

पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट खोलने की प्रक्रिया

यदि आप भारतीय डाक विभाग की पोस्ट ऑफिस टाइम डिपाजिट योजन ( Post Office Time Deposit ) में अपना खाता खुलवा कर उसमे अपनी राशी निवेश ( Investment ) करना चाहते है ! तो इसकी प्रक्रिया बहुत ही आसान और सरल है ! पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट में राशी निवेश ( Investment ) करने के लिए सबसे पहले आपको अपने नजदीकी डाकघर ( Post Office ) में या अपने क्षेत्र के डाकिया से संपर्क करना होगा !

उनसे इस पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट का आवेदन ले कर उसमे मांगी गयी ! सभी जानकरी सही सही भर कर पोस्ट ऑफिस में आवेदन को जमा कर दे ! इसके बाद आपका पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट खाता ( Post Office Time Deposit Account ) खोल दिया जायेगा |

रेटिंग: 4.49
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 195
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *